Connect with us

Punjab

लुधियाना में प्रेमी की हरकतों से तंग तलाकशुदा महिला ने किया Suicide

Published

on

अपने प्रेमी की दूसरी युवती के साथ दोस्ती होने का पता चला तो उसने Suicide कर ली। Suicide करने से पहले महिला ने Suicide नोट लिखा, जिसमें साफ तौर पर Suicide के लिए जीवन साथी को जिम्मेदार ठहराया है। फिलहाल थाना सलेम टाबरी की पुलिस ने मृतका मनदीप कौर के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल भेजा है। सुसाइड नोट को भी अपने कब्जे में लिया गया है। वहीं, मृतका के परिजनों के बयानों के आधार पर बनती कार्रवाई किए जाने की बात मानी जा रही है।

जानकारी के मुताबिक मनदीप कौर की शादी करीब 7 साल पहले हुई थी। उसको एक बेटी भी है। मनदीप का अपने पति के साथ किसी बात को लेकर तलाक हो गया था, जिसके बाद उसकी बेटी अपने दादके परिवार में ही रह रही है।

मनदीप कौर अपने मायके में रहती थी और पिंडी गली में एक दुकान पर काम करती थी। मंगलवार सुबह रोजाना की तरह मनदीप और उसके मां-बाप काम पर चले गए। कुछ देर बाद मनदीप ने अपनी मां को फोन कर घर बुलाया। पिता घर लौटे तो मनदीप खुदकुशी कर चुकी थी।

Suicide के लिए प्रेमी को जिम्मेदार ठहराया

मनदीप के शव के पास से मिले सुसाइड नोट पर उसने अपने प्रेमी की हरकतें लिखी हुई थीं। उसने अपनी मौत का जिम्मेदार जीवन नाम के एक युवक को बताया जो कि उसको बीते कई सालों से शादी करवाने का लारा लगा हुआ था। मनदीप कौर ने सुसाइड नोट पर लिखा कि उसको बीते रविवार को पता चला कि जीवन की बीते कुछ साल से एक अन्य लड़की के साथ दोस्ती थी, जिसके साथ भी वह शादी करवाने का वादा किए हुए था। इस घटना का पता चलने पर वह बुरी तरह से टूट गई और सोमवार पूरा दिन परेशान रहने के बाद मंगलवार सुबह खुदकुशी कर ली। उसने खुदकुशी करने से पहले उन लोगों को भी रुपए लौटाने की बात की, जिनको उसने पैसे देने थे।

author avatar
Editor Two
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Punjab

कनाडा के PM जस्टिन ट्रूडो ने Diljit की खूब तारीफ की, खुद सरप्राइज देने पहुंचे

Published

on

एक्टर और पंजाबी सिंगर Diljit दुसांझ अपने गानों से सभी को दीवाना बना देते हैं। Diljit के फैंस सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी हैं, यही वजह है कि विदेशों में भी उनके म्यूजिक टूर का उत्साह फैंस में देखने को मिल रहा है|

दिलजीत दुसांझ इन दिनों एक कॉन्सर्ट के लिए कनाडा के टोरंटो गए हुए हैं। कनाडा के रोजर्स सेंटर में परफॉर्म कर रहे दिलजीत से मिलने खुद कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो पहुंचे। दरअसल, प्रधानमंत्री जस्टिन Trudeau अचानक दिलजीत के कॉन्सर्ट में पहुंच गए। इसी बीच उन्होंने सिंगर के साथ हल्का फुल्का मूवमेंट शेयर किया और फोटो क्लिक करवाई|

प्रधानमंत्री Trudeau  और दिलजीत दुसांझ दोनों ने इस मुलाकात की तस्वीरें एक्स पर शेयर की हैं. तस्वीरें शेयर करते हुए ट्रूडो ने लिखा, ‘दिलजीत दुसांझ के शो से पहले उनका स्वागत करने रोजर्स सेंटर पहुंचे। कनाडा एक महान देश है, जहां पंजाब का एक लड़का इतिहास रच सकता है और स्टेडियम बेच सकता है। विविधता सिर्फ हमारी शक्ति नहीं है, यह हमारी महाशक्ति है।

गौरतलब है कि दिलजीत ने कनाडा में इतिहास रच दिया है. वह रोजर्स सेंटर में प्रदर्शन करने वाले पहले पंजाबी कलाकार बन गए हैं और इस स्टेडियम के टिकट बिक गए हैं। दिलजीत दुसांझ ने अपने सिंगिंग करियर की शुरुआत पंजाब से की और फिर राष्ट्रीय और फिर पूरी दुनिया में मशहूर हो गए। इसके साथ ही ट्रूडो ने दिलजीत की टीम और क्रू से भी मुलाकात की| इस दौरान सभी ‘पंजाबी आ गया ओय’ कहते नजर आ रहे हैं।

दिलजीत ने अपने इंस्टाग्राम पर पीएम ट्रूडो से मुलाकात का वीडियो शेयर करते हुए लिखा, ‘विविधता कनाडा की ताकत है। इतिहास देखने पहुंचे प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो. रोजर्स सेंटर में हमारा शो आज हाउसफुल है।’ इसके साथ ही जस्टिन ट्रूडो ने भी दिलजीत दोसांझ की तारीफ करते हुए एक पोस्ट लिखा है और दोसांझ की इस उपलब्धि से काफी प्रभावित हुए हैं|

author avatar
Editor Two
Continue Reading

Punjab

43 दिनों में चरणजीत सिंह चन्नी का जादू ख़त्म, कांग्रेस के लिए Jalandhar उपचुनाव के नतीजे ‘खतरे की घंटी’

Published

on

Jalandhar वेस्ट विधानसभा उपचुनाव के नतीजे कांग्रेस के लिए बेहद चौंकाने वाले और डराने वाले रहे। लोकसभा चुनाव में 7 सीटें जीतने का ‘हनीमून’ दौर अभी खत्म भी नहीं हुआ था कि उपचुनाव में कांग्रेस तीसरे नंबर पर आ गई. उपचुनाव में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी की जीत पहले से ही तय मानी जा रही थी. इस चुनाव के लिए मुख्यमंत्री भगवंत मान ने अपना आवास जालंधर स्थानांतरित कर लिया था, लेकिन चुनाव नतीजे कांग्रेस के लिए खतरे की घंटी बनकर उभरे।

उपचुनाव में कांग्रेस ने पूरी ताकत झोंक दी थी. चुनाव की पूरी जिम्मेदारी जालंधर से सांसद और पूर्व मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के कंधों पर थी. यह कांग्रेस के लिए भी चिंता का विषय है क्योंकि उसे चार और उपचुनाव और पांच नगर निगम चुनाव लड़ने हैं। यह परिणाम कांग्रेस के लिए भी चिंता का विषय है क्योंकि चौधरी परिवार के पतन के बाद चरणजीत सिंह चन्नी दोआबा की दलित राजनीति में एक नए नेता के रूप में उभरे थे। लोकसभा चुनाव में चन्नी ने न सिर्फ ये सीट जीती बल्कि जालंधर वेस्ट में 44,394 वोट भी हासिल किए|

बीजेपी के सुशील रिंकू को 42,837 वोट मिले. इस विधानसभा में रिंकू चन्नी से 1557 वोटों से पीछे थे। चुनाव नतीजे आने के महज 40 दिनों के अंदर ही कांग्रेस पहले से तीसरे स्थान पर खिसक गई. आम आदमी पार्टी के महेंद्र भगत चुनाव जीते, जबकि बीजेपी की शीतल अंगुराल 17,921 वोटों के साथ दूसरे स्थान पर रहीं. कांग्रेस की महिला उम्मीदवार सुरिंदर कौर 16,757 वोटों के साथ तीसरे स्थान पर रहीं। चुनाव सीधे चंद्रमा के सामने लड़ा जा रहा था। पार्टी ने उम्मीदवार चयन और चुनावी रणनीति की सारी जिम्मेदारी चन्नी को सौंपी थी. लोकसभा और विधानसभा उपचुनाव के 40 दिन के अंदर ही चांद का जादू खत्म होता नजर आ रहा है|

2021 में मुख्यमंत्री बनने के बाद चन्नी लगातार खुद को दलित नेता का बड़ा चेहरा साबित करने की कोशिश कर रहे हैं. 2022 का विधानसभा चुनाव भी चन्नी के चेहरे पर ही लड़ा गया. जब चन्नी ने लोकसभा चुनाव जीता तो वह दलितों के बड़े नेता बनकर उभरे। लेकिन सुरक्षित सीट पर चन्नी का जादू नहीं चल सका. जबकि चन्नी पूरे चुनाव के दौरान जालंधर वेस्ट में सक्रिय रहे। यह कांग्रेस के लिए भी चिंता का विषय है क्योंकि जालंधर पश्चिम से उसके नेता महेंद्र केपी पार्टी छोड़कर शिरोमणि अकाली दल में शामिल हो गए हैं। इसके साथ ही चन्नी को टिकट मिलने के बाद चौधरी परिवार भी उनसे दूर हो गया है. जबकि पांच नगर निगमों में चुनाव होने हैं, उनमें जालंधर भी शामिल है| ऐसे में जालंधर वेस्ट के चुनाव नतीजे कांग्रेस के लिए खतरे की घंटी की तरह हैं|

author avatar
Editor Two
Continue Reading

Punjab

जालंधर वेस्ट के नए विधायक बने ‘AAP’ उम्मीदवार महेंद्र भगत, घर और पार्टी में जश्न का माहौल

Published

on

पंजाब में जालंधर पश्चिम (आरक्षित) विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव का नतीजा शनिवार यानी आज घोषित हो गया है। आपको बता दें कि इस सीट पर 15 उम्मीदवारों ने चुनाव लड़ा था| इनमें भाजपा से शीतल अंगुराल, आम आदमी पार्टी (AAP) से महेंद्र पाल भगत, कांग्रेस से सुरिंदर कौर, शिरोमणि अकाली दल (अमृतसर) से सरबजीत सिंह, शिरोमणि अकाली दल (शिअद) से सुरजीत कौर और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) शामिल हैं। डॉ। बिंदर कुमार चुनाव मैदान में उतरे|

इन सभी उम्मीदवारों के बीच आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार महिंदर भगत ने बड़ा दांव खेला है| उन्होंने कांग्रेस और बीजेपी को कड़ी टक्कर देकर जीत हासिल की है| जानकारी के लिए बता दें कि इससे पहले आप के मोहिंदर भगत 11 राउंड में जीत हासिल कर चुके हैं| उन्हें 46 हजार से ज्यादा वोट मिले| बीजेपी की शीतल अंगुराल दूसरे और कांग्रेस की सुरिंदर कौर तीसरे नंबर पर हैं| ग्यारहवें राउंड में आप के महेंद्र भगत को 46064 वोट मिले| कांग्रेस की सुरिंदर कौर को 14668 और बीजेपी की शीतल अंगुराल को 15393 वोट मिले|

author avatar
Editor Two
Continue Reading

Trending