Connect with us

National

क्या 2024 में होकर रहेगा वर्ल्ड वार? 6 बड़ी परमाणु ताकतों ने बना लिया है विनाश का प्लान

Published

on

दुनिया के 6 देशों के एटम बम हथियार डिपो से बाहर आ चुके हैं. ये मुल्क दुनिया के सबसे ताकतवर देश हैं. इन देशों के नेताओं ने विनाश का प्लान बना लिया है. ये देश हैं रूस, अमेरिका, चीन, इजराइल, उत्तर कोरिया और ब्रिटेन.

दुनिया की 6 बड़ी परमाणु ताकतों ने नए साल के पहले दिन ही दुनिया के सामने अपने परमाणु प्लान का ऐलान कर दियाा है. ये 6 न्यूक्लियर गॉडफादर अपना साम्राज्य बढ़ाने के लिए पूरी धरती को परमाणु की रेडियोएक्टिव अग्नि में झोंकने वाले हैं. रूस, अमेरिका , उत्तर कोरिया, इजराइल, चीन और ब्रिटेन… दुनिया के ये 6 देशों के एटम बम हथियार डिपो से बाहर आ चुके हैं. इनमें भी रूस, अमेरिका, उत्तर कोरिया और चीन के परमाणु प्रहारक (स्ट्राइकर) तो निशाना तक साध चुके हैं.

गाजा और यूक्रेन में कभी भी कुछ भी हो सकता है, लेकिन नए साल की शुरुआत से कुछ ही घंटे पहले दुनिया में एक और ऐसी जंग शुरू हो गई है जिसका अंजाम एटम बम से कम नहीं होगा. नए साल की पूर्व संध्या पर अपने संबोधन में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग 2023 की कामयाबियां गिना रहे थे. फिर उन्होंने 2024 वाला प्रण लिया और साफ-साफ शब्दों में कहा ताइवान को चीन में मिलाना है. शी जिनपिंग ने साल 2023 के अंतिम और 2024 के पहले संबोधन में चीन के लोगों से वादा किया.

ताइवान पर अड़े जिनपिंग

जिनपिंग ने कहा कि ताइवान चीन का ही हिस्सा है. ताइवान निश्चित रूप से चीन में शामिल होगा. अगर बातचीत से बात नहीं बनी तो बलपूर्वक ताइवान को चीन में मिलाया जाएगा. लेकिन ताइवान पर अंततः बीजिंग का ही नियंत्रण होगा. इधर चीन के विस्तारवादी राष्ट्रपति ने ताइवान को चीन में मिलाने का प्रण लिया. उधर चीन ने फाइटर जेट और युद्धपोत ताइवान स्ट्रेट की तरफ बढ़ गए. हालांकि 2023 में भी चीन कई बार ताइवान स्ट्रेट में अपनी हद से आगे बढ़ चुका है.

लेकिन इस बार नया साल शुरू होते ही जिनपिंग ने जिस तरह ताइवान पर जबर्दस्ती कब्जा करने का वादा किया है उसने तय कर दिया है कि 2024 में एक और युद्ध शुरू होने वाला है और अगर ये युद्ध हुआ तो पहले दिन से ये जंग अमेरिका और चीन की जंग होगी और समंदर एटमी शोलों से भर जाएगा.

ताइवान में 13 जनवरी को राष्ट्रपति चुनाव है. उससे ठीक पहले धमकी देकर चीन ने ताइवान पर सैन्य दबाव बढ़ा दिया है. हालांकि इस बार शी की धमकी को हल्के में नहीं लिया जा सकता क्योंकि चीन ने पिछले हफ्ते ही नेवी कमांडर जनरल डॉन्ग जुन को नया रक्षा मंत्री बनाया है.चीन के इतिहास में ऐसा पहली बार है जब नौसेना के किसी अधिकारी को ये पद मिला. सबसे बड़ी बात ये है कि जनरल डॉन्ग जुन ताइवान के लिए बनाई गई थिएटर कमांड और दक्षिण चीन सागर में काम कर चुके हैं. यानी चीन ने रणनीति के तहत रक्षा मंत्री उस अधिकारी को बनाया जो ताइवान के इलाके को अच्छी तरह समझता है.

इसके अलावा जिनपिंग ने कुछ दिन पहले चीन की कम्युनिस्ट पार्टी की एक विशेष बैठक की. ऐसी बैठक जो 10 साल में सिर्फ 2 बार होती है. इस बैठक में जिनपिंग ने अपनी हाईपॉवर कोर टीम को बुलाया और कहा कि चाहे जो करना पड़े अब समंदर से अमेरिकी वर्चस्व को खत्म करना है.

किम भी कम नहीं

समंदर से अमेरिकी वर्चस्व को खत्म करने का काम चीन ताइवान को रणभूमि बनाकर शुरू करने वाला है लेकिन ये युद्ध शुरू होते दुनिया में एटमी जंग भड़कने का खतरा सबसे ज्यादा होगा क्योंकि ताइवान के साथ अमेरिका है और बाइडेन कह चुके हैं कि अगर चीन हमला करता है तो अमेरिका ताइवान की रक्षा दीवार बनकर खड़ा हो जाएगा.

ताइवान पर तनाव और अमेरिका-चीन के बीच बढ़ती दुश्मनी का फायदा किम जोंग उन ने उठाया है. नए साल के मौके पर किम जोंग उन ने भी शी जिनपिंग की तरह कोरिया वर्कर पार्टी की खास बैठक बुलाई. इस मीटिंग में किम जोंग उन ने उत्तर कोरियाई सेना के कमांडिंग अफसरों को भी बुलाया.

इसी बैठक में किम जोंग उन ने उत्तर कोरिया के रक्षा मंत्री और सेना प्रमुख को आदेश देते हुए कहा कि अगर अमेरिका और दक्षिण कोरिया कोई उकसावे वाली कार्रवाई करें तो वह उन्हें पूरी तरह से तबाह कर दें. किम जोंग उन ने 2024 में एक और परमाणु परीक्षण का लक्ष्य रखा है. अमेरिका को सबसे ज्यादा डर किम से लगता है, क्योंकि एटम बम का रिमोट अपने हाथ में लेकर चलने वाले दुनिया के गिने चुने लोगों में सिर्फ किम जोंग उन ही वो शख्स है जो धमाके से पहले सोचेगा नहीं.

अमेरिका को किम के एटम बम से इसलिए भी डर लगता है क्योंकि अब उत्तर कोरिया के पास ह्वासोंग-18 नाम की वो एटमी मिसाइल है जिसके निशाने पर अमेरिका का हर शहर है. 18 दिसंबर को ही किम जोंग उन ने अपनी सबसे विनाशक इंटरकॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल ह्वासोंग-18 का तीसरा टेस्ट लॉन्च करवाया था. किम जोंग उन अपनी पत्नी और बेटी के साथ अमेरिका को डराने वाली इस एटमी मिसाइल का परीक्षण देखने पहुंचा था.

अमेरिका किम की एटमी सनक से डरा हुआ है क्योंकि पहली बार किम ने नए साल के मौके पर प्योंगयांग में भव्य जश्न का आयोजन करवाया और उत्तर कोरिया की जनता के सामने कई बार अमेरिका को जलाकर खाक कर देने का ऐलान किया. किम जोंग उन भड़के हुए हैं क्योंकि पड़ोसी दक्षिण कोरिया में अमेरिकी सैनिक किम के देश उत्तर कोरिया से अंतिम जंग लड़ने की तैयारी कर रहे हैं. लेकिन किम के भड़कने की वजह सिर्फ इतनी नहीं है. किम को खबर ये मिली है कि अमेरिका और दक्षिण कोरिया ने मिलकर किम जोंग उन को खत्म करने का ऑपरेशन शुरू कर दिया है.

न्यूयॉर्क पोस्ट ने दावा किया है कि दक्षिण कोरिया की सेना अमेरिकी कमांडो के साथ मिलकर उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन की हत्या का अभ्यास यानी डिकैपिटेशन ड्रिल कर रही है. साउथ कोरिया की सेना नॉर्थ कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन की हत्या की तैयारी कर रही है. इसलिए किम ने 31 दिसंबर को अमेरिका और दक्षिण कोरिया को जलाकर खाक कर देने का आदेश दे दिया. पर नए साल पर परमाणु धमकी देने में ना जिनपिंग पीछे रहे. ना किम और ना पुतिन. रूसी रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगु ने तो नए साल के अपने पहले संबोधन में पिछली साल हुई तबाही से हासिल और इस साल मचने वाले विनाश का लक्ष्य भी बता दिया.

पुतिन को हार बर्दाश्त नहीं

एक तरफ ताइवान में चुनाव हैं और जिनपिंग किसी भी कीमत पर अब ताइवान में साई इंग वेन की जीत बर्दाश्त नहीं कर सकते. दूसरी तरफ रूस में भी चुनाव हैं और पुतिन किसी भी स्थिति में रूस की हार बर्दाश्त नहीं कर सकते. चाहे जीत के लिए पूरी दुनिया को ही क्यों न जलाना पड़े. लेकिन दुनिया में परमाणु जंग का खतरा सिर्फ रूस, चीन, या किम के परमाणु बमों से ही नहीं है.

मध्य पूर्व में छिड़ी जंग में अब कभी भी परमाणु बारूद झोंका जा सकता है. नए साल से ठीक पहले अमेरिका ने हूती विद्रोहियों पर बड़ा प्रहार किया. अमेरिकी नौसेना ने हूती विद्रोहियों की तीन नाव डुबो दी, जिसमें हूती के 10 लड़ाकों की मौत हो गई. उधर, ईरान एटम बम बनाने के एकदम नजदीक है.

ईरान से मिले ड्रोन और मिसाइलों के दम पर यमन के हूती विद्रोही पूरे यूरोप की लाइफलाइन तोड़ने पर आमादा हैं. हूती के टारगेट पर परमाणु शक्ति सम्पन्न देश इजराइल के जहाज हैं, लेकिन अब यूरोप के परमाणु शक्ति सम्पन्न देश ब्रिटेन ने हूती का सर्वनाश करने की सौगंध उठा ली है. हूती विद्रोहियों से निपटने के लिए अमेरिका के साथ अब ब्रिटेन के युद्धपोत भी लाल सागर में उतर गए हैं.

यूक्रेन युद्ध अभी रुका नहीं है. गाजा में जंग जारी है. हूती विद्रोहियों ने यमन में एक नया मोर्चा खोल दिया है और ताइवान पर कब्जा करने की कसम खाए बैठे जिनपिंग ने समंदर में भी आग लगा दी है. 2024 का आगाज परमाणु शक्ति संपन्न देशों की विनाशक योजनाओं से हुआ है.

author avatar
Editor One
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

National

Bihar: 4 साल के बच्चे का शव मिलने से परिजनों ने गुस्से में स्कूल को लगा दी आग

Published

on

Bihar की राजधानी पटना के दीघा इलाके में उस वक्त सन सनी फैल गई जब एक निजी स्कूल में गुरुवार से लापता स्कूली छात्र का शव नाले में मिला | बताया जा रहा है कि छात्र का शव स्कूल के नाले में मिला| मौके पर लोगों की भारी भीड़ जमा हो गई और पुलिस भी मोर्चे पर पहुंच गई| लोग गुस्से में हैं और सड़कें जाम कर रहे हैं| बता दें कि बच्चा कल से लापता था और लगातार उसकी तलाश की जा रही थी| छात्र की उम्र चार साल का थी | छात्र का शव मिलने के बाद आक्रोशित भीड़ की शक्ल में असामाजिक तत्वों ने जमकर उत्पात मचाया|

बतादें की असामाजिक तत्वों ने कानून अपने हाथ में लेते हुए पटना दानापुर रोड पर आगजनी की| दीघा एशियाना रोड भी जाम हो गया| कई स्कूल बसें रोकी गईं और पैदल यात्रियों के साथ मारपीट की घटनाएं भी हुईं| इतना ही नहीं गुस्साई भीड़ ने स्कूल में भी आग लगा दी | पुलिस टीम भी मौके पर पहुंच गई है| स्कूल के बाहर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है |

इस बीच स्कूल बिल्डिंग में लगी आग पर काबू पा लिया गया और 3 लोगों को हिरासत में लिया गया है| परिजनों की शिकायत पर दीघा थाने में मामला दर्ज कर लिया गया है| इस बीच पुलिस ने सभी लोगों से शांति बनाये रखने की अपील की है|

वहीं सिटी एसपी ने बताया कि रात में छात्र के लापता होने की जानकारी मिली| मौके का सीसीटीवी फुटेज भी मिला जिसमें बच्चा जाता तो दिखा, लेकिन आता नहीं। इसलिए हम इसकी जांच हत्या के तौर पर करेंगे| फिलहाल तीन लोगों को हिरासत लेकर उनसे पूछताछ की जा रही है |

author avatar
Editor Two
Continue Reading

National

Rajasthan में किराये के लिए किराएदार ने बुजर्ग महिला को उतारा मौत के घाट

Published

on

Rajasthan के जयपुर में सोमवार को किराए को लेकर माकन मालकिन और किरायेदार के बीच विवाद हो गया था | जिसके बाद एक किरायेदार ने 55 वर्षीय बुजर्ग महिला और उसके नाबालिग पोते की हत्या कर दी। दरसअल, पोते ने किराएदार को अपनी दादी की हत्या करते हुए देख लिया, जिसके बाद आरोपी ने उसकी भी हत्या कर दी| पुलिस ने बताया कि जयपुर के सांगानेर इलाके में बहस के बाद आरोपी मनोज बैरवा ने प्रेम देवी पर धारदार हथियार से हमला कर दिया|

रिपोर्ट के मुताबिक, आरोपी ने वहां खड़े महिला के सात वर्षीय पोते गौरव की भी हत्या कर दी| इतना ही नहीं दोनों को मारने के बाद मनोज बैरवा ने दोनों शवों को घर की पानी से भरी टंकी में फेंक दिया| जानकरी के मुताबिक, शव को पानी की टंकी में फेंकने के बाद आरोपी भागने लगा लेकिन तभी पड़ोसियों को इसकी भनक लग गई और उन्होंने अन्य लोगों के साथ मिलकर उसका पीछा किया और हत्यारे किरायेदार को पकड़ लिया|

इसके बाद लोगों ने पुलिस को सूचना दी तो सांगानेर पुलिस ने आरोपी मनोज को हिरासत में ले लिया और दोनों शवों को पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल भेज दिया| पुलिस पूछताछ में आरोपी मनोज बैरवा ने बताया कि उसका मकान मालकिन से कई बार झगड़ा होता था और घटना से पहले भी झगड़ा हुआ था| इस दौरान वह होश में नहीं था क्युकी उसने नशा कर रखा था और गुस्से में आकर बुजर्ग महिला की हत्या कर दी|

रिपोर्ट के मुताबिक उस बुजर्ग महिला के पोते गौरव ने किराएदार मनोज को हत्या करते हुए देख लिया और जब वह चिल्लाने लगा तो किराएदार ने उस पर भी चाकू से वार कर हत्या कर दिया | फिर उन दोनों के शवों को छिपाने के लिए पानी की टंकी में फेंक दिया | फिलहाल पुलिस ने मौके पर पहुंचकर दोनों शवों को पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल की मोर्चरी में रखवा दिया|

author avatar
Editor Two
Continue Reading

National

Rajasthan: मै आगे की पढ़ाई नहीं करना चाहता, मां में घर छोड़ कर जा रहा हूं, NEET की तैयारी कर रहे छात्र ने परिवार को लिखा पत्र

Published

on

Rajasthan के कोटा में एक अजीब मामला सामने आया है | जहां एक 19 वर्षीय छात्र ने अपने परिवार को एक पत्र लिखा। पत्र में छात्र ने लिखा कि मैं घर छोड़ रहा हूं, मैं आगे पढ़ाई नहीं करना चाहता। मेरे पास कम से कम 8 हजार रुपये हैं और मैं पांच साल के लिए घर छोड़ रहा हूं| छात्र ने आगे लिखा कि मैं अपना फोन बेचकर सिम तोड़ रहा हूं और मां से कहूंगा कि वह टेंशन न लें। मैं कोई गलत कदम नहीं उठाऊंगा| मेरे पास सभी के नंबर हैं, जरूरत पड़ने पर मैं खुद फोन कर लूंगा।’

कोटा में 3 साल रहकर निजी कोचिंग से पढ़ाई कर रहा था| 5 मई को उसने नीट का एग्जाम दिया| उसके बाद घर वालों से भी बात हुई | पिता को राजेंद्र ने कहा कि 160 क्वेश्चन वह करके आया है और पेपर अच्छा गया है| 6 मई को राजेंद्र ने अपने बड़े भाई के फोन पर एक मैसेज भेजा |

उसमें उसने लिखा कि – “मैं घर छोड़कर जा रहा हूं, मुझे आगे की पढ़ाई अब नहीं करनी 5 साल बाद घर लौट आऊंगा, मम्मी को कहना वह कोई टेंशन ना ले, मैं कोई भी मैं कोई भी गलत कदम नहीं उठाऊंगा और साल में एक बार फोन जरूर करूंगा”|

यह पत्र बामनवास, गंगारामपुर निवासी राजिंदर मीना ने अपने माता-पिता को लिखा है। मीना कोटा में मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट की तैयारी कर रही थी। वहीं, बेटे की चिट्ठी पढ़कर परिवार ने पुलिस को सूचना दी। पुलिस के मुताबिक राजिंदर के पिता जगदीश मीना ने गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई है| परिजनों को उसके लापता होने की जानकारी तब हुई जब उनके मोबाइल पर छात्र का मैसेज आया। राजेंद्र के पिता किसान है और वह खेती करते हैं| 6 मई से ही अपने बेटे को पुलिस के साथ मिलकर ढूंढ रहे हैं|

राजेंद्र के पिता के मुताबिक, उनका बेटा छह मई को लापता हो गया था| वह दोपहर 1.30 बजे कोटा में अपने पेइंग गेस्ट आवास से निकले थे। उसका संदेश मिलने के बाद, उसके परिवार के सदस्यों ने पुलिस में गुमशुदगी की शिकायत दर्ज कराने से पहले उसकी तलाश शुरू कर दी। फिलहाल राजिंदर का कोई पता नहीं चल पाया है, लेकिन पुलिस ने उसकी गिरफ्तारी के लिए सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया है|

हर साल देशभर से लाखों छात्र NEET मेडिकल परीक्षा की तैयारी के लिए कोटा आते हैं। हालांकि, पिछले कुछ समय से कोटा से भी ऐसी खबरें आ रही हैं, जहां छात्र पढ़ाई का दबाव नहीं झेल पाते और आत्महत्या कर लेते हैं।

author avatar
Editor Two
Continue Reading

Trending