Connect with us

National

बच्चों को Cerelac देने वाले हो जाए सावधान, Nestle कर रहा सेहत से खिलवाड़

Published

on

Nestle is playing with health

Nestle ने शिशु आहार उत्पादों के संबंध में अंतरराष्ट्रीय दिशानिर्देशों का उल्लंघन किया है। पब्लिक आई की एक जांच से पता चला है कि भारत में Nestle India के दो सबसे ज्यादा बिकने वाले Baby food Brands में बहुत अधिक चीनी (Nestle बेबी फूड प्रोडक्ट्स में चीनी) होती है। Nestle के शिशु आहार भारत में व्यापक रूप से बेचे जाते हैं। खास बात यह है कि नेस्ले के ऐसे उत्पाद यूनाइटेड किंगडम, जर्मनी, स्विट्जरलैंड और अन्य विकसित देशों में शुगर फ्री हैं। Nestle दुनिया की सबसे बड़ी उपभोक्ता सामान कंपनी है। यह कई देशों में बच्चों के दूध और अनाज उत्पादों में चीनी और शहद मिलाता है। यह मोटापे और पुरानी बीमारियों की रोकथाम के उपायों के बीच अंतरराष्ट्रीय दिशानिर्देशों का उल्लंघन है। यह उल्लंघन केवल एशियाई, अफ़्रीकी और लैटिन अमेरिकी देशों में पाया जाता है।

भारत में बच्चों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़
ये खुलासा हुआ है कि भारत में सभी 15 Cerelac शिशु उत्पादों में प्रति सर्विंग में औसतन 3 ग्राम चीनी होती है। अध्ययन में कहा गया है कि जर्मनी और ब्रिटेन में वही उत्पाद बिना चीनी के बेचा जा रहा है, जबकि इथियोपिया और थाईलैंड में इसमें लगभग 6 ग्राम चीनी होती है। ऐसे उत्पादों की पैकेजिंग पर पोषण संबंधी जानकारी में अक्सर चीनी की मात्रा का खुलासा नहीं किया जाता है।

रिपोर्ट में कहा गया है, हालांकि Nestle अपने उत्पादों में vitamins, खनिज और अन्य पोषक तत्वों पर प्रमुखता से प्रकाश डालती है, लेकिन जब चीनी की बात आती है तो यह कम पारदर्शी होती है। अगर साल 2022 की बात करें तो कंपनी ने भारत में 20,000 करोड़ रुपये से ज्यादा के सेरेलैक प्रोडक्ट्स बेचे थे। विशेषज्ञों का कहना है कि शिशु उत्पादों में बहुत अधिक चीनी मिलाना एक खतरनाक और अनावश्यक अभ्यास है।

हालांकि, Nestle इंडिया के प्रवक्ता ने कहा कि वे सभी स्थानीय मानदंडों और अंतरराष्ट्रीय मानकों का पालन करते हैं। इसने पिछले पांच वर्षों में अपने बेबी अनाज रेंज में चीनी को 30% तक कम कर दिया है। प्रवक्ता ने लाइवमिंट को बताया, “पिछले पांच वर्षों में, नेस्ले इंडिया ने अपने शिशु अनाज पोर्टफोलियो (दूध अनाज आधारित पूरक खाद्य पदार्थ) में चीनी सामग्री को 30% तक कम कर दिया है।

author avatar
Editor Two

National

Bihar: 4 साल के बच्चे का शव मिलने से परिजनों ने गुस्से में स्कूल को लगा दी आग

Published

on

Bihar की राजधानी पटना के दीघा इलाके में उस वक्त सन सनी फैल गई जब एक निजी स्कूल में गुरुवार से लापता स्कूली छात्र का शव नाले में मिला | बताया जा रहा है कि छात्र का शव स्कूल के नाले में मिला| मौके पर लोगों की भारी भीड़ जमा हो गई और पुलिस भी मोर्चे पर पहुंच गई| लोग गुस्से में हैं और सड़कें जाम कर रहे हैं| बता दें कि बच्चा कल से लापता था और लगातार उसकी तलाश की जा रही थी| छात्र की उम्र चार साल का थी | छात्र का शव मिलने के बाद आक्रोशित भीड़ की शक्ल में असामाजिक तत्वों ने जमकर उत्पात मचाया|

बतादें की असामाजिक तत्वों ने कानून अपने हाथ में लेते हुए पटना दानापुर रोड पर आगजनी की| दीघा एशियाना रोड भी जाम हो गया| कई स्कूल बसें रोकी गईं और पैदल यात्रियों के साथ मारपीट की घटनाएं भी हुईं| इतना ही नहीं गुस्साई भीड़ ने स्कूल में भी आग लगा दी | पुलिस टीम भी मौके पर पहुंच गई है| स्कूल के बाहर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है |

इस बीच स्कूल बिल्डिंग में लगी आग पर काबू पा लिया गया और 3 लोगों को हिरासत में लिया गया है| परिजनों की शिकायत पर दीघा थाने में मामला दर्ज कर लिया गया है| इस बीच पुलिस ने सभी लोगों से शांति बनाये रखने की अपील की है|

वहीं सिटी एसपी ने बताया कि रात में छात्र के लापता होने की जानकारी मिली| मौके का सीसीटीवी फुटेज भी मिला जिसमें बच्चा जाता तो दिखा, लेकिन आता नहीं। इसलिए हम इसकी जांच हत्या के तौर पर करेंगे| फिलहाल तीन लोगों को हिरासत लेकर उनसे पूछताछ की जा रही है |

author avatar
Editor Two
Continue Reading

National

Rajasthan में किराये के लिए किराएदार ने बुजर्ग महिला को उतारा मौत के घाट

Published

on

Rajasthan के जयपुर में सोमवार को किराए को लेकर माकन मालकिन और किरायेदार के बीच विवाद हो गया था | जिसके बाद एक किरायेदार ने 55 वर्षीय बुजर्ग महिला और उसके नाबालिग पोते की हत्या कर दी। दरसअल, पोते ने किराएदार को अपनी दादी की हत्या करते हुए देख लिया, जिसके बाद आरोपी ने उसकी भी हत्या कर दी| पुलिस ने बताया कि जयपुर के सांगानेर इलाके में बहस के बाद आरोपी मनोज बैरवा ने प्रेम देवी पर धारदार हथियार से हमला कर दिया|

रिपोर्ट के मुताबिक, आरोपी ने वहां खड़े महिला के सात वर्षीय पोते गौरव की भी हत्या कर दी| इतना ही नहीं दोनों को मारने के बाद मनोज बैरवा ने दोनों शवों को घर की पानी से भरी टंकी में फेंक दिया| जानकरी के मुताबिक, शव को पानी की टंकी में फेंकने के बाद आरोपी भागने लगा लेकिन तभी पड़ोसियों को इसकी भनक लग गई और उन्होंने अन्य लोगों के साथ मिलकर उसका पीछा किया और हत्यारे किरायेदार को पकड़ लिया|

इसके बाद लोगों ने पुलिस को सूचना दी तो सांगानेर पुलिस ने आरोपी मनोज को हिरासत में ले लिया और दोनों शवों को पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल भेज दिया| पुलिस पूछताछ में आरोपी मनोज बैरवा ने बताया कि उसका मकान मालकिन से कई बार झगड़ा होता था और घटना से पहले भी झगड़ा हुआ था| इस दौरान वह होश में नहीं था क्युकी उसने नशा कर रखा था और गुस्से में आकर बुजर्ग महिला की हत्या कर दी|

रिपोर्ट के मुताबिक उस बुजर्ग महिला के पोते गौरव ने किराएदार मनोज को हत्या करते हुए देख लिया और जब वह चिल्लाने लगा तो किराएदार ने उस पर भी चाकू से वार कर हत्या कर दिया | फिर उन दोनों के शवों को छिपाने के लिए पानी की टंकी में फेंक दिया | फिलहाल पुलिस ने मौके पर पहुंचकर दोनों शवों को पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल की मोर्चरी में रखवा दिया|

author avatar
Editor Two
Continue Reading

National

Rajasthan: मै आगे की पढ़ाई नहीं करना चाहता, मां में घर छोड़ कर जा रहा हूं, NEET की तैयारी कर रहे छात्र ने परिवार को लिखा पत्र

Published

on

Rajasthan के कोटा में एक अजीब मामला सामने आया है | जहां एक 19 वर्षीय छात्र ने अपने परिवार को एक पत्र लिखा। पत्र में छात्र ने लिखा कि मैं घर छोड़ रहा हूं, मैं आगे पढ़ाई नहीं करना चाहता। मेरे पास कम से कम 8 हजार रुपये हैं और मैं पांच साल के लिए घर छोड़ रहा हूं| छात्र ने आगे लिखा कि मैं अपना फोन बेचकर सिम तोड़ रहा हूं और मां से कहूंगा कि वह टेंशन न लें। मैं कोई गलत कदम नहीं उठाऊंगा| मेरे पास सभी के नंबर हैं, जरूरत पड़ने पर मैं खुद फोन कर लूंगा।’

कोटा में 3 साल रहकर निजी कोचिंग से पढ़ाई कर रहा था| 5 मई को उसने नीट का एग्जाम दिया| उसके बाद घर वालों से भी बात हुई | पिता को राजेंद्र ने कहा कि 160 क्वेश्चन वह करके आया है और पेपर अच्छा गया है| 6 मई को राजेंद्र ने अपने बड़े भाई के फोन पर एक मैसेज भेजा |

उसमें उसने लिखा कि – “मैं घर छोड़कर जा रहा हूं, मुझे आगे की पढ़ाई अब नहीं करनी 5 साल बाद घर लौट आऊंगा, मम्मी को कहना वह कोई टेंशन ना ले, मैं कोई भी मैं कोई भी गलत कदम नहीं उठाऊंगा और साल में एक बार फोन जरूर करूंगा”|

यह पत्र बामनवास, गंगारामपुर निवासी राजिंदर मीना ने अपने माता-पिता को लिखा है। मीना कोटा में मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट की तैयारी कर रही थी। वहीं, बेटे की चिट्ठी पढ़कर परिवार ने पुलिस को सूचना दी। पुलिस के मुताबिक राजिंदर के पिता जगदीश मीना ने गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई है| परिजनों को उसके लापता होने की जानकारी तब हुई जब उनके मोबाइल पर छात्र का मैसेज आया। राजेंद्र के पिता किसान है और वह खेती करते हैं| 6 मई से ही अपने बेटे को पुलिस के साथ मिलकर ढूंढ रहे हैं|

राजेंद्र के पिता के मुताबिक, उनका बेटा छह मई को लापता हो गया था| वह दोपहर 1.30 बजे कोटा में अपने पेइंग गेस्ट आवास से निकले थे। उसका संदेश मिलने के बाद, उसके परिवार के सदस्यों ने पुलिस में गुमशुदगी की शिकायत दर्ज कराने से पहले उसकी तलाश शुरू कर दी। फिलहाल राजिंदर का कोई पता नहीं चल पाया है, लेकिन पुलिस ने उसकी गिरफ्तारी के लिए सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया है|

हर साल देशभर से लाखों छात्र NEET मेडिकल परीक्षा की तैयारी के लिए कोटा आते हैं। हालांकि, पिछले कुछ समय से कोटा से भी ऐसी खबरें आ रही हैं, जहां छात्र पढ़ाई का दबाव नहीं झेल पाते और आत्महत्या कर लेते हैं।

author avatar
Editor Two
Continue Reading

Trending