Connect with us

National

26 /11 Attack : आखिर कैसे रची गयी थी मुंबई पर हमला करने की साजिश

Published

on

26 /11 Attack : आखिर कैसे रची गयी थी मुंबई पर हमला करने की साजिश

मुंबई आतंकी हमले को 15 साल हो गए हैं। उस आतंकी हमले को कौन भूल सकता है जिसने देश-दुनिया को हिलाकर रख दिया था. पाकिस्तान से आए आतंकियों ने सीएसटी रेलवे स्टेशन, होटल ताज समेत कई जगहों पर गोलीबारी कर करीब 166 लोगों की हत्या कर दी थी. इस हमले में 300 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं. इस हमले के जख्म आज भी हरे हैं. 

इस हमले को भारत के इतिहास का सबसे भीषण आतंकी हमला कहना गलत नहीं होगा. 26 नवंबर, 2008 को 10 पाकिस्तानी आतंकवादी समुद्र के रास्ते मुंबई पहुंचे और कई स्थानों पर अंधाधुंध गोलीबारी की, जिसमें 18 सुरक्षाकर्मियों सहित 166 लोग मारे गए। हमले वाले दिन 9 साल की देविका अपने भाई और पिता के साथ पुणे जाने के लिए सीएसटी स्टेशन पर थी, तभी अचानक फायरिंग शुरू हो गई. आतंकियों ने उन्हें भी नहीं बख्शा और फायरिंग कर दी. 

– तारीख – 26 नवंबर, 2008… बुधवार को हर दिन की तरह लोग मुंबई की व्यस्त सड़कों पर घूम रहे थे. उधर, मुंबई में आतंकियों के घुसने का सिलसिला भी जारी था. कोलाबा के समुद्रतट पर एक नाव से उतरे 10 आतंकी, छिपे हुए हथियारों से लैस, ये आतंकी कोलाबा की फिशरमैन कॉलोनी से मुंबई में दाखिल हुए और दो गुटों में बंट गए.

– इनमें से दो आतंकी यहूदी गेस्ट हाउस नरीमन हाउस की ओर बढ़े, जबकि दो आतंकी छत्रपति शिवाजी टर्मिनल (सीएसटी) की ओर बढ़े। इसके साथ ही दो आतंकियों की एक टीम होटल ताज महल की ओर बढ़ी और बाकी आतंकी होटल ट्राइडेंट ओबेरॉय की ओर बढ़े. इसके बाद इमरान बाबर और अबू उमर नाम के आतंकी लियोपोल्ड कैफे पहुंचे और रात करीब 9.30 बजे उन्होंने वहां जोरदार धमाका कर दिया, जिसके बाद लोगों में अफरा-तफरी मच गई.

26 /11 Attack : आखिर कैसे रची गयी थी मुंबई पर हमला करने की साजिश

-दूसरी ओर आतंकियों की दूसरी टीम (जिसमें कसाब और अबू इस्माइल खान शामिल थे) सीएसटी पहुंची और अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी। कुछ ही देर में इन आतंकियों ने 50 से ज्यादा लोगों को मौत के घाट उतार दिया. आतंकियों की तीसरी टीम होटल ताज महल और चौथी टीम होटल ट्राइडेंट ओबेरॉय पहुंची और यहां भी आतंकियों ने अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी. होटल ताज महल में कम, लेकिन होटल ट्राइडेंट ओबेरॉय में 30 से ज्यादा लोग मरे।

इस हमले में महाराष्ट्र एटीएस प्रमुख हेमंत करकरे, पुलिस अधिकारी विजय सालस्कर, आईपीएस अशोक कामटे और कांस्टेबल संतोष जाधव आतंकियों से लड़ते हुए शहीद हो गए। कई घंटों तक चली मुठभेड़ में नेशनल सिक्योरिटी गार्ड (एनएसजी) ने आखिरकार नौ आतंकियों को मार गिराया और 10वें आतंकी अजमल कसाब को जिंदा पकड़ लिया। फिर उनसे पूछताछ का सिलसिला शुरू हुआ |

26 /11 Attack : आखिर कैसे रची गयी थी मुंबई पर हमला करने की साजिश

 पाकिस्तान के इन आतंकियों को हाई लेवल ट्रेनिंग दी गई थी। इनका मकसद देश में तबाही मचाना और कंधार अपहरण कांड में शामिल आतंकियों को छुड़ाना था.

-आखिरकार चार साल की न्यायिक प्रक्रिया के बाद 21 नवंबर 2012 को वह पल आया जब आतंकवादी अजमल कसाब को फांसी दे दी गई। कसाब को पुणे की यरवदा जेल में सुबह 7:30 बजे फांसी दे दी गई.

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

National

Madhya Pradesh: एक महीने तक लड़की का करता रहा Rape, ज़ख्मों पर लगता था लाल मिर्च

Published

on

Madhya Pradesh: एक महीने तक लड़की का करता रहा Rape, ज़ख्मों पर लगता था लाल मिर्च

Madhya Pradesh के गुना जिले के एक गांव से दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है| यहां एक पड़ोसी ने 23 साल की लड़की को बंधक बनाकर उसके साथ Rape किया।खबर मिली है कि आरोपी ने यह सब इसलिए किया क्योंकि वह लड़की की संपत्ति हड़पना चाहता था|

पुलिस ने पीड़िता की शिकायत पर आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर उसे Arrest कर लिया है| पुलिस ने बताया कि पड़ोसी ने 23 साल की महिला के साथ एक महीने तक Rape किया और उसे बेरहमी से प्रताड़ित करता रहा | पीड़िता ने बताया कि आरोपी उससे जबरदस्ती शादी कर उसकी पैतृक संपत्ति के कागजात पर हस्ताक्षर कराकर अपने नाम कराना चाहता था|

रिपोर्ट के मुताबिक, आरोपी ने पीड़िता को एक महीने तक बंधक बनाकर रखा और उसका यौन शोषण किया| इतना ही नहीं आरोपी पीड़ित लड़की को बेल्ट और पानी की पाइप से पीटता था | आरोपी ने उसके घावों पर मिर्च पाउडर मल दिया और उसे चिल्लाने से रोकने के लिए उसके होठों को फेवीक्विक से बंद कर दिया। पीड़िता अपनी मां के साथ गुना के बाहरी इलाके में एक गांव में रहती है।

पीड़िता ने बताया कि एक माह पहले आरोपी उसे जबरन अपने घर ले गया, जहां एक कमरे में बंद कर दिया| उसे बाहर जाने या किसी से बात करने की इजाजत नहीं थी | मंगलवार की रात वह किसी तरह उसके चंगुल से भाग निकली। पीड़िता रात भर में 5 किमी का सफर तय कर केंट थाने पहुंची और पुलिस से मदद मांगी|

पीड़िता की हालत देखकर खुद पुलिस भी हैरान रह गई| उसके होठों को गोंद से सील कर दिया गया था। उसकी आंखें सूजी हुई थीं और पूरे शरीर पर चोट के निशान थे| फिलहाल पुलिस ने आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया|

Continue Reading

National

बच्चों को Cerelac देने वाले हो जाए सावधान, Nestle कर रहा सेहत से खिलवाड़

Published

on

Nestle is playing with health

Nestle ने शिशु आहार उत्पादों के संबंध में अंतरराष्ट्रीय दिशानिर्देशों का उल्लंघन किया है। पब्लिक आई की एक जांच से पता चला है कि भारत में Nestle India के दो सबसे ज्यादा बिकने वाले Baby food Brands में बहुत अधिक चीनी (Nestle बेबी फूड प्रोडक्ट्स में चीनी) होती है। Nestle के शिशु आहार भारत में व्यापक रूप से बेचे जाते हैं। खास बात यह है कि नेस्ले के ऐसे उत्पाद यूनाइटेड किंगडम, जर्मनी, स्विट्जरलैंड और अन्य विकसित देशों में शुगर फ्री हैं। Nestle दुनिया की सबसे बड़ी उपभोक्ता सामान कंपनी है। यह कई देशों में बच्चों के दूध और अनाज उत्पादों में चीनी और शहद मिलाता है। यह मोटापे और पुरानी बीमारियों की रोकथाम के उपायों के बीच अंतरराष्ट्रीय दिशानिर्देशों का उल्लंघन है। यह उल्लंघन केवल एशियाई, अफ़्रीकी और लैटिन अमेरिकी देशों में पाया जाता है।

भारत में बच्चों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़
ये खुलासा हुआ है कि भारत में सभी 15 Cerelac शिशु उत्पादों में प्रति सर्विंग में औसतन 3 ग्राम चीनी होती है। अध्ययन में कहा गया है कि जर्मनी और ब्रिटेन में वही उत्पाद बिना चीनी के बेचा जा रहा है, जबकि इथियोपिया और थाईलैंड में इसमें लगभग 6 ग्राम चीनी होती है। ऐसे उत्पादों की पैकेजिंग पर पोषण संबंधी जानकारी में अक्सर चीनी की मात्रा का खुलासा नहीं किया जाता है।

रिपोर्ट में कहा गया है, हालांकि Nestle अपने उत्पादों में vitamins, खनिज और अन्य पोषक तत्वों पर प्रमुखता से प्रकाश डालती है, लेकिन जब चीनी की बात आती है तो यह कम पारदर्शी होती है। अगर साल 2022 की बात करें तो कंपनी ने भारत में 20,000 करोड़ रुपये से ज्यादा के सेरेलैक प्रोडक्ट्स बेचे थे। विशेषज्ञों का कहना है कि शिशु उत्पादों में बहुत अधिक चीनी मिलाना एक खतरनाक और अनावश्यक अभ्यास है।

हालांकि, Nestle इंडिया के प्रवक्ता ने कहा कि वे सभी स्थानीय मानदंडों और अंतरराष्ट्रीय मानकों का पालन करते हैं। इसने पिछले पांच वर्षों में अपने बेबी अनाज रेंज में चीनी को 30% तक कम कर दिया है। प्रवक्ता ने लाइवमिंट को बताया, “पिछले पांच वर्षों में, नेस्ले इंडिया ने अपने शिशु अनाज पोर्टफोलियो (दूध अनाज आधारित पूरक खाद्य पदार्थ) में चीनी सामग्री को 30% तक कम कर दिया है।

Continue Reading

National

Gujarat रोड शो के दौरान रो पड़े Bhagwant Singh Mann, बोले kejriwal के साथ ऐसा व्यवहार क्यों ?

Published

on

Gujarat रोड शो के दौरान रो पड़े Bhagwant Singh Mann, बोले kejriwal के साथ ऐसा व्यवहार क्यों ?

पंजाब के मुख्यमंत्री Bhagwant Singh Mann आज से दो दिवसीय Gujarat दौरे पर हैं। इस मौके पर CM Mann ने भावनगर में रोड शो किया| जहां उन्होंने आम आदमी पार्टी प्रत्याशी के पक्ष में प्रचार किया| Gujarat में आम आदमी पार्टी और Congress इंडिया ने मिलकर गठबंधन के तहत चुनाव लड़ा है |

मुख्यमंत्री Bhagwant Singh Mann ने अपने एक्स अकाउंट पर एकVideo शेयर किया जिसमें वह लोगों को संबोधित करते हुए भावुक हो गए. वीडियो शेयर करते हुए उन्होंने लिखा- Arvind Kejriwal जी के प्रति तानाशाही सरकार का रवैया देखकर मेरी आंखों में आंसू आ गए… उनके साथ जेल में खतरनाक अपराधियों जैसा व्यवहार किया जा रहा है… Modi Sir, क्या लोगों को अच्छे अस्पताल मिलने चाहिए, बेहतरीन क्या स्कूल, मुफ्त बस यात्रा, मुफ्त बिजली जैसी सुविधाएं देना अपराध है?

अपने पहले दिन Bhagwant Singh Mann ने भावनगर में उम्मीदवार उमेश मकवाणा के समर्थन में प्रचार किया| अपने दौरे के दूसरे दिन कल CM Mann चित्रा वसावा के लिए भरूच में रैली करेंगे| गुजरात में आप के लिए ये दोनों सीटें बेहद अहम हैं, जहां पार्टी अपना विस्तार करना चाहती है।

गौरतलब है कि उन्होंने गुजरात के लोकसभा क्षेत्र भावनगर से आप उम्मीदवार उमेश मकवाना द्वारा अपना नामांकन पत्र दाखिल करते समय आयोजित रोड शो में भाग लिया था। रोड शो के दौरान बड़ी संख्या में लोग जुटे|

Continue Reading

Trending