Connect with us

Himachal Pradesh

मिलन ने सुभाष को दिया क्रिप्टो ठगी का प्लान, उत्तर प्रदेश के शातिर ने बनाए ठगी के सॉफ्टवेयर

Published

on

Bitcoin

हिमाचल में क्रिप्टो करंसी नाम से लोगों से अरबों रुपए की ठगी करने का खेल मंडी के सुभाष शर्मा ने अकेले नहीं रचा है, बल्कि इस खेल में पर्दे के पीछे एक और असली किरदार मिलन गर्ग है। उत्तर प्रदेश के मेरठ के रहने वाले मिलन गर्ग ने मंडी के सुभाष शर्मा के साथ हिमाचल व आसपास में अढ़ाई हजार करोड़ की ठगी को अंजाम दिया है। मिलन गर्ग और सुभाष की मुलाकात दुबई में हुई थी और यही से क्रिप्टो करंसी के नाम पर ठगी का खाका तैयार किया गया। उत्तर प्रदेश के मेरठ का रहने वाला मिलन गर्ग इससे पहले हाइपेनेक्स्ट योजना के माध्यम से भी करोड़ों की ठगी कर चुका है। इसके बाद क्रिप्टो के माध्यम से मिलन गर्ग ने सुभाष शर्मा को साथ लेकर सबसे बड़ी ठगी को अंजाम दिया है। अब बताया जा रहा है कि सुभाष के दुबई भागने के बाद मिलन गर्ग थाईलैंड भाग चुका है। हालांकि एसआईटी उसकी असली लोकेशन की जांच कर रही है। मिलन गर्ग ने ही तीन साल में एमएलएम नेटवर्क के लिए पांच अलग अलग सॉफ्टवेयर तैयार करवा कर दिए थे। इन सॉफ्टवेयर को मिलन गर्ग ही आपरेट करता था। जब-जब लोगों को शक होने लगा, तो मिलन गर्ग यह सॉफ्टवेयर बदलवाता गया।

ये सॉफ्टवेयर देश से बाहर तैयार करवाए गए। जनवरी, 2022 में हिमाचल प्रदेश के बड़े-बड़े एजेंट की जब दिल्ली में सुभाष शर्मा के साथ अंतिम बैठक हुई थी, तो इस बैठक में पहली बार मिलन गर्ग भी सामने आया था। इससे पहले हिमाचल के सैकड़ों एजेंट ने मिलन गर्ग का नाम ही सुना था। इस बैठक में स्वयं मिलन गर्ग ने स्वयं बताया था कि इस स्कीम का सारा सॉफ्टवेयर वह संभाल रहा है और सबका पैसा सुरक्षित है। जांच में यह भी बात सामने आई कि इस खेल में सुभाष ने स्वयं अपनी कोई आईडी नहीं लगाई थी। सारा पैसा सुभाष तक ही पहुंचता था, लेकिन उसके नाम से कोई आईडी नहीं मिली है। सारे खेल में मास्टर आईडी हेमराज, सुखदेव व मिलन गर्ग के नाम से हैं। इससे तीनों को घर बैठे हर माह करोड़ों रुपए की कमीशन आती थी। शुरुआत में सुभाष के एजेंट होने के साथ-साथ मिलन गर्ग को छोड़ कर बाकी सभी सुभाष की पांच फर्जी कंपनियों में पार्टनर भी बन गए थे। (एचडीएम)

ईडी के राडार पर पांच महिलाएं

इस सारे मामले में पांच महिलाएं प्रवर्तन निदेशालय ईडी की राडार पर हैं। पांच महिलाओं में पंजाब के जीरकपुर की एक, हमीरपुर की दो, ऊना व बद्दी की एक एक महिला शामिल है। इन्होंने कोर्वियो, वास्को व हाइपेनेक्स्ट योजना चलाकर लोगों से करोड़ों रुपए का निवेश करवाया है। इनमें से दो महिलाएं पुलिस की गिरफ्त में हैं।

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Himachal Pradesh

Himachal ने नए शहर के लिए किया आवेदन, 75 वर्षों में नहीं बना एक भी नया शहर

Published

on

ऊर्जा एवं नगर विकास मंत्री मनोहर लाल ने कहा कि हिमाचल प्रदेश में जल्द ही नया शहर बसाया जा सकता है। उन्होंने मुख्यमंत्री और अन्य अधिकारियों के साथ बैठक के बाद यह बात कही। उन्होंने यह भी कहा कि हिमाचल प्रदेश में नया शहर बने हुए काफी समय हो गया है। 15वें वित्त आयोग ने नए शहरों के निर्माण और विकास के लिए 8000 करोड़ रुपये निर्धारित किए हैं।

उन्हें 29 नए शहरों के विकास के प्रस्ताव मिले हैं, लेकिन केवल 10 का ही चयन किया जाएगा। हिमाचल प्रदेश ने भी नए शहर के लिए प्रस्ताव भेजा है। उन्होंने कहा कि यह कठिन है, लेकिन उनका मानना ​​है कि हिमाचल प्रदेश को भी स्मार्ट सिटी परियोजना में शामिल किया जा सकता है। केंद्रीय मंत्री ने यह भी कहा कि वे मार्च 2025 तक स्मार्ट सिटी के अपने लक्ष्यों को पूरा कर लेंगे।

सीएम सुखू शिमला में बैठक करना चाहते थे, लेकिन मौसम खराब होने के कारण उन्होंने चंडीगढ़ में बैठक की। उन्होंने केंद्रीय मंत्री के साथ महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा की और अच्छी प्रतिक्रियाएं मिलीं। हमने बिजली, शहरों को स्मार्ट बनाने और शहरों को बेहतर बनाने जैसे मुद्दों पर बात की।

हमने हिमाचल प्रदेश में शन्नान, एसजेवीएन और सुन्नी बिजली परियोजनाओं जैसी परियोजनाओं के बारे में भी बात की। हमने बताया कि राज्य सरकार को बिजली पर पैसे का नुकसान हुआ है, लेकिन ऊर्जा मंत्री ने इसे ठीक करने के लिए उन्हें पैसे देने का वादा किया।

किसी दूसरे राज्य का कोई भी व्यक्ति हिमाचल प्रदेश में ज़मीन खरीद सकता है। सुक्खू ने बताया कि 20 बीघा तक की ज़मीन खरीदने के लिए सरकार से अनुमति लेनी पड़ती है। कोई भी व्यक्ति शिमला, धर्मशाला या हिमाचल प्रदेश के दूसरे नगर निगम शहरों में अपार्टमेंट खरीद सकता है।

आप ज़मीन खरीद सकते हैं, लेकिन आपको पहले यह सुनिश्चित करने के लिए अनुमति लेनी होगी कि ज़मीन पर पानी और सड़क जैसी ज़रूरी चीज़ें हैं।

author avatar
Editor Two
Continue Reading

Himachal Pradesh

Himachal में फटा बदल, ढह गए मकान, एक की हई मौत

Published

on

Himachal प्रदेश के ट्रांसगिरी इलाके में बादल फटने से रेतुआ पंचायत डांडा पौंटा साहिब में रहने वाले 48 वर्षीय अमन सिंह नामक व्यक्ति की मौत हो गई। शुक्रवार रात को ट्रांसगिरी इलाके में बहुत तेज बारिश हुई। रेतुआ गांव में दोपहर करीब डेढ़ बजे अचानक बहुत तेज बारिश हुई।

तेज बारिश के कारण रेतुआ गांव के पास नाला ओवरफ्लो हो गया और पानी भर गया। बारिश के बाद अमन सिंह गौशाला में गायों को देखने के लिए बाहर गए, लेकिन वे मलबे में फंस गए और एक गाय नहीं मिली। पुरुवाला पुलिस को घटना की जानकारी दी गई। उन्होंने सुबह-सुबह लापता व्यक्ति की तलाश शुरू की। उन्हें अमन सिंह का शव टोंस नदी में मिला, जो उनके घर से पांच किलोमीटर दूर है।

रेतुआ गांव शिलाटा जंगल के बीच में है। यहां कई पेड़ काटे जा रहे हैं और पेड़ों को हटाने के लिए सड़कें बनाई जा रही हैं। इससे भूस्खलन हो रहा है क्योंकि मिट्टी को थामे रखने के लिए पेड़ नहीं हैं। यह एक बड़ी समस्या है।

इस बीच, पुरुवाला पुलिस स्टेशन के प्रमुख राजेश पाल ने पुष्टि की है कि बादल फटने की घटना हुई है। उन्होंने कहा कि उन्हें नदी में लापता व्यक्ति का शव मिला है। पुलिस अब इस पर काम कर रही है कि आगे क्या करना है।

author avatar
Editor Two
Continue Reading

Himachal Pradesh

हिमाचल में भारी बारिश और बर्फबारी से लोगों की मुश्किलें बढ़ीं, 650 से ज्यादा सड़कें बंद

Published

on

By

हिमाचल प्रदेश में बारिश और बर्फबारी ने काहिर को तबाह कर दिया है। हिमाचल प्रदेश के कई जिलों में भूस्खलन से लोगों की मुश्किलें बढ़ गई हैं। राज्य में कई सड़कें बंद हो गई हैं और कई इलाकों में बिजली गुल हो गई है। शिमला मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार, कुल्लू, शिमला, चंबा, मंडी, किन्नौर और लाहौल-स्पीति जिलों में कुछ इंच से लेकर 2-3 फीट तक भारी बर्फबारी हुई है। इसके चलते राज्य भर में 4 नेशनल हाईवे और 654 सड़कें बंद हो गई हैं।

अधिकारियों ने बताया कि लाहौल-स्पीति के जसरत गांव के पास दारा झरने पर भूस्खलन के बाद चिनाब नदी का प्रवाह बाधित हो गया है, जबकि जिले में पिछले 24 घंटों में भारी बर्फबारी हुई है। लाहौल-स्पीति के पुलिस अधिकारी मयंक चौधरी ने कहा कि आसपास के गांवों जोबरंग, रापी, जसरत, तरंद और थ्रोट के लोगों को सतर्क रहने और आपात स्थिति में नजदीकी पुलिस स्टेशन को सूचित करने की सलाह दी गई है।

इस संबंध में अधिकारियों ने बताया कि किन्नौर जिले के सांगला में करछम हेलीपैड के पास भी भूस्खलन की सूचना मिली है. राज्य आपातकालीन परिचालन केंद्र के अनुसार, 4 राजमार्गों सहित 654 सड़कों पर यातायात बंद है। लाहौल-स्पीति में 290, किन्नौर में 75, चंबा में 72, शिमला में 35, कुल्लू में 18, मंडी में 16, कांगड़ा और सिरमौर जिलों में एक-एक सड़कें बंद हैं।

बता दें कि मौसम विभाग ने लगातार दूसरे दिन हिमाचल के मध्य और निचले पहाड़ों में मध्यम से भारी बारिश की भविष्यवाणी की है। राज्य में कुल वर्षा 42.2 मिमी दर्ज की गई है, जो इस समय के वार्षिक औसत 4 मिमी से बहुत अधिक है। मौसम विभाग ने सोमवार को भी निचली और मध्य पहाड़ियों में बारिश और ऊंची पहाड़ियों में बर्फबारी की भविष्यवाणी की है।

Continue Reading

Trending