Connect with us

Delhi

यह कैसा राम राज्‍य, जहां 90 प्रतिशत लोगों को रोजगार नहीं मिल सकता : राहुल गांधी

Published

on

यह कैसा राम राज्‍य, जहां 90 प्रतिशत लोगों को रोजगार नहीं मिल सकता : राहुल गांधी

नेशनल डेस्क: कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने ‘राम राज्‍य’ की परिकल्‍पना को साकार करने का दावा करने वाली केंद्र की नरेन्द्र मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए बुधवार को कहा कि यह कैसा राम राज्‍य है जहां कुल आबादी में लगभग 90 फीसद हिस्‍सेदारी रखने वाले पिछड़ों, दलितों, आदिवासियों और अल्‍पसंख्‍यकों को रोजगार नहीं मिल सकता। अपनी ‘भारत जोड़ो न्‍याय यात्रा’ के तहत कानपुर पहुंचे राहुल ने शहर स्थित घंटाघर चौराहे पर एक जनसभा को सम्‍बोधित करते हुए मोदी सरकार पर देश की आबादी में करीब 90 प्रतिशत की हिस्‍सेदारी रखने वाले पिछड़ों, दलितों, आदिवासियों और अल्‍पसंख्‍यकों के साथ नाइंसाफी करने का आरोप लगाया।

‘यह कैसा राम राज्य है’
उन्‍होंने कहा, ”देश में 50 प्रतिशत आबादी पिछड़े वर्गों की है, दलित 15 प्रतिशत, आठ प्रतिशत आदिवासी और अल्‍पसंख्‍यक 15 प्रतिशत हैं। आप जितना चिल्लाना चाहते हैं चिल्लाएं लेकिन इस देश में आपको रोजगार नहीं मिल सकता। आप पिछड़े, दलित, आदिवासी या गरीब सामान्य वर्ग के हैं तो आपको रोजगार नहीं मिल सकता। (प्रधानमंत्री) नरेन्द्र मोदी जी नहीं चाहते कि आप लोगों को रोजगार मिले।” पूर्व कांग्रेस अध्‍यक्ष ने कहा, ”यह कैसा राम राज्य है जिसमें 90 प्रतिशत लोगों को रोजगार नहीं मिल सकता। लोग भूखे मर रहे हैं। मीडिया में बड़े-बड़े उद्योगों में आपका कोई नहीं है। किसी संस्था में आपका कोई नहीं। नौकरशाही में आपका कोई नहीं।”

प्राण प्रतिष्‍ठा में कितने लोग पिछड़े वर्ग के थे
राहुल ने गत 22 जनवरी को अयोध्‍या में हुए राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह में भी पिछड़े, दलित और आदिवासी वर्गों की उपेक्षा का आरोप लगाया और कहा, ”आपने प्राण प्रतिष्‍ठा का कार्यक्रम देखा। उसमें कितने लोग पिछड़े वर्ग के थे, दलित और आदिवासी कितने थे। आदिवासी राष्ट्रपति (द्रौपदी मुर्मु) को भी नहीं बुलाया गया। ” राहुल ने जातिवार गणना पर जोर देते हुए कहा, ”हमने कहा है कि हिंदुस्तान की प्रगति के लिए सबसे बड़ा क्रांतिकारी कदम जातिवार जनगणना है। इससे दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा। जातिवार जनगणना के बाद आर्थिक सर्वे और वित्तीय सर्वे करके हम पता लगाएंगे कि दलितों, आदिवासियों और पिछड़ों के हाथ में कितना पैसा है।”

अडाणी-अंबानी जैसे लोग राज कर रहे
उन्‍होंने आरोप लगाते हुए कहा, ”देश का पूरा का पूरा धन दो तीन प्रतिशत लोगों के हाथ में है। अडाणी, अंबानी, टाटा, बिड़ला…. यह दो-तीन प्रतिशत लोग आप पर राज कर रहे हैं। नए हिंदुस्तान के महाराजा हैं यह लोग…. और जो प्रजा है वह भटकती है! कभी आप लोगों के पेपर लीक हो जाते हैं, कभी आपको नौकरी से निकाला जाता है, आप पर जीएसटी लागू होती है, नोटबंदी लागू होती है, आपकी सरकारी भर्तियां नहीं होती। आपका जो सेना में जाने का रास्ता था वह भी इन्होंने (मोदी सरकार) अग्निवीर योजना से बंद कर दिया है।”

यह देश भाईचारे का है, मोहब्बत का है
राहुल गांधी ने कहा, ”हम सब जानते हैं कि यह देश नफरत का नहीं है। इसका इतिहास नफरत का नहीं है, इसके धर्म नफरत के नहीं हैं, इसकी भाषा नफरत की नहीं है, यह देश भाईचारे का है, मोहब्बत का है, एक दूसरे की इज्जत करने का है।” इससे पहले, राहुल की यात्रा उन्‍नाव पहुंची। इस दौरान सोहरामऊ से उन्‍नाव के बीच उन्‍होंने सड़क पर खडे़ लोगों का बस से ही हाथ हिलाकर अभिवादन किया। उन्‍नाव शहर से निकलने के बाद और शुक्‍लागंज पहुंचने से पहले राहुल का काफिला अकरमपुर के पास कुछ देर के लिए रुका जहां उन्‍होंने कार्यकर्ताओं से भेंट की।

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi

Delhi के एक मकान में हुआ डबल मर्डर, चीख-पुकार सुनकर पहुंचे पड़ोस

Published

on

Delhi के एक मकान में हुआ डबल मर्डर, चीख-पुकार सुनकर पहुंचे पड़ोस

रामनामी के दिन Delhi के शकरपुर इलाके में उस वक्त सनसनी फैल गई जब लोगों ने एक से मकान से चीखने-चिल्लाने की आवाजें सुनाई दी | चीख-पुकार सुनकर पड़ोस में रहने वाले लोग घर पहुंचे और पूरी घटना की जानकारी हुई तो सब सन्न रह गए। बताया जा रहा है कि उनका पोता घर के कमरे में था और बेटा गायब था, इतना ही नहीं कमरे में बहू और बहू के भाई के शव पड़े थे|

बताया जा रहा है कि IT कंपनी में काम करने वाले श्रेय ने अपनी ही 29 साल की पत्नी और 18 साल के साले की चाकू मारकर हत्या कर दी| इस घटना के बाद से वह घर से गायब है| पुलिस का कहना है कि घटना को अंजाम देने के बाद श्रेय मौके से फरार हो गया| हालांकि, हत्या क्यों हुई और इसके पीछे क्या मकसद है यह अभी तक पता नहीं पाया है|

पुलिस को घटना की जानकारी बुधवार सुबह तब हुई जब पहली मंजिल पर रहने वाले श्रेय के पिता अपने बेटे को जगाने गए। ऊपर जाकर देखा तो दरवाजा खुला था। जैसे ही उसने कमरे का दरवाजा खोला तो देखा कि उसका दो साल का पोता बिस्तर पर पड़ा हुआ था, जबकि कमरे में श्रेय की पत्नी और श्रेय के साले की लाशें पड़ी थीं| कमरे में यह दृश्य देखकर उसकी चीख निकल गई। शोर सुनकर पड़ोस के लोग तुरंत उसके घर आ गए।

इसके बाद घटना की सूचना पुलिस को दी गई| पुलिस के मुताबिक, उन्होंने हत्या का मामला दर्ज कर लिया है और आरोपी श्रेय की तलाश शुरू करदी |
इस मामले में पुलिस का कहना है कि परिजनों द्वारा दिए गए बयानों में कई तरह के विरोधाभास हैं | फिलहाल पुलिस परिवार वालो से पूछताछ कर रही है | पुलिस भी हर पहलु से मामले की जाँच कर रही है |

Continue Reading

Delhi

Delhi CM ने तिहार जेल से भेजी भावक चिठ्ठी, Sanjay Singh ने तिहाड़ जेल की खोली पोल…!

Published

on

Delhi CM ने तिहार जेल से भेजी भावक चिठ्ठी, Sanjay Singh ने तिहाड़ जेल की खोली पोल...!

AAM Admi Party (आप) के राज्यसभा Sanjay Singh ने मंगलवार (16 अप्रैल) को प्रेस कॉन्फ्रेंस किया जिसमे उन्होंने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल ने जेल से लोगों को संदेश भेजा है, जो उन्होंने लोगों को पढ़ कर सुनाई | Sanjay Singh ने कहा है कि ‘मेरा नाम Arvind Kejriwal है, मैं आतंकवादी नहीं हूं.’ और इसी के साथ ही Sanjay Singh ने तिहाड़ जेल की पोल भी खोली|

Sanjay Singh ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ‘आप Arvind Kejriwal के साथ आतंकवादियों जैसा व्यवहार कर रहे हैं, आपको शर्म नहीं आती.’ प्रधानमंत्री अपनी दुर्भावना में इस हद तक आगे बढ़ गए हैं कि उनके (केजरीवाल के) परिवार और बच्चों से मुलाकात शीशे की दीवार के जरिए की जा रही है।’

उन्होंने कहा, ”पंजाब के मुख्यमंत्री Bhagwant Mann को Z + सुरक्षा मिली हुई है, जब वह Kejriwal से मिले तो उनके बीच कांच की दीवार थी| इस हरकत से BJP ने जता दिया है कि उनके मन में Kejriwal के प्रति नफरत की भावना है|

Sanjay Singh ने कहा कि Arvind Kejriwal को 24 घंटे CCTV निगरानी में रखा जा रहा है और उन्हें प्रताड़ित करने, उनका मनोबल गिराने की कोशिश करने और परिवार को अपमानित करने की योजना है| ये अरविंद केजरीवाल अलग मिट्टी के बने हैं, आईआरएस सेवा छोड़ने के बाद ये आगे बढ़ने की कोशिशों में और मजबूत होंगे|

आपको बता दें कि हाल ही में मुख्यमंत्री Bhagwant Mann Arvind Kejriwal से जेल में मिलने गए थे| लेकिन वहां उनकी सभा शीशे की दीवार के जरिए हुई, जिसके बाद मुख्यमंत्री ने इस पर आपत्ति जताई और केंद्र सरकार पर निशाना साधा. आज सीएम अरविंद केजरीवाल ने जेल से एक भावनात्मक संदेश भेजा है|

Sanjay Singh तिहाड़ जेल की खोली पोल

इसी के साथ ही Sanjay Singh ने तिहाड़ जेल की पोल खोली और बताया कि मैं तो तिहाड़ जेल में रहकर आया हूं, किसकी मुलाकात कैसे होती है, ये मुझे पता है, तिहाड़ के जेल नम्बर दो में एक कुख्यात अपराधी बंद है, उसका वकील और उसकी पत्नी बैरक में मिलते हैं। तिहाड़ में कौन जेलर के रूम में मिल रहा है ये सब मुझे पता है। सिर्फ केजरीवाल ही बड़ा अपराधी है क्या?

Continue Reading

Delhi

PM Narinder Modi top 7 gamers से मिले, Gamer से पूछा गुजरात में ये बीमारी कैसे पहुंची

Published

on

PM Narinder Modi mee top 7 gamers

हाल में PM Narendra Modi देश के पहले Digital content creators अवार्ड में कई सारे creators से मिलने और उन्हें सम्मानित किया | PM मोदी माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक Bill Gates से दिलचस्प मुलाकात के बाद पीएम मोदी ने देश के 7 ऑनलाइन गेमर्स से मुलाकात की. इस दौरान उन्होंने दिलचस्प बातें कहीं|

एक गेमर गुजरात के भुज का रहने वाला है। PM Modi ने हल्के-फुल्के अंदाज में पूछा, गुजरात कैसे पहुंची यह बीमारी? उनके सवाल पर सभी युवा ऑनलाइन गेमर्स मुस्कुरा दिए। पीएम मोदी ने उनसे सस्ते इंटरनेट की उपलब्धता के बारे में भी पूछा. इस बीच Pm Modi ने एक Online Game भी खेला. साथ ही गेमिंग और जुए के बीच का अंतर भी समझाया।

दरअसल, PM Narinder Modi से मुलाकात करने वाले युवाओं में से एक युवक गुजरात के भुज का रहने वाला था. जैसे ही PM Modi को पता चला कि वह भुज से हैं तो उन्होंने हल्के लहजे में पूछा- भुज में यह बीमारी (ऑनलाइन गेम) कहां से आई? इस पर युवा गेमर ने पीएम को बताया कि यह पूरे देश में फैला हुआ है. इससे पहले PM Modi ने सभी ऑनलाइन गेमर्स का परिचय और Online Gaming में उनकी रुचि के बारे में भी जानना चाहा|

PM Modi के सवाल, Gamers के जवाब

Online gamers से मुलाकात के दौरान PM Modi ने पूछा कि क्या आपने स्कूल-कॉलेज से इसके बारे में सीखा? इस पर ऑनलाइन गेमर नमन माथुर ने कहा कि उन्होंने इसके बारे में यूट्यूब से सीखा और कॉलेज में सभी को इसके बारे में बताया. इसके साथ ही पायल ने बताया कि जब उन्होंने ऑनलाइन गेमिंग शुरू की तो उन्हें देखकर बाकी लड़कियों ने भी ऑनलाइन गेम खेलना शुरू कर दिया.

माता-पिता के बारे में सवाल
PM Modi ने पूछा कि जब माता-पिता कहते हैं कि यह हमारे बच्चों को बिगाड़ रहा है तो आप लोगों को कैसा लगता है? इस पर युवा गेमर्स ने कहा कि वे सभी को इसके बारे में जागरूक करना चाहते हैं. साथ ही, Online Gaming ने कहा कि गेमिंग के लिए मानसिक कौशल की आवश्यकता होती है। इस मौके पर पीएम मोदी ने पर्यावरण जैसे मुद्दों पर भी बात की. साथ ही गेमिंग और जुए के बीच का अंतर भी समझाया।

Continue Reading

Trending