Connect with us

Blog

क्यों हुए MDH के मसाले Ban ! क्या सच में इन मसालों से होता है Cancer ?

Published

on

असली मसाले सच-सच इसके आगे के words तो आपको याद ही होंगे MDH-MDH इस punchline को बचे से बूढ़े तक सभी ने सुना है | लेकिन आज इस MDH मसाले अपने Taste को लेकर नहीं, बल्कि किसी अलग वजह से सुर्खियों में है | दरअसल, Hong Kong, Singapore , Maldives और फिर America में इस Brand के कुछ products को लेकर investigation चल रही है|

इसमें Cancer बनने वाले Chemicals के इस्तेमाल पर Allegation लगाए जा रहे हैं| हालांकि, MDH की ओर से इन Allegations को झूठा और Baseless बताया गया है| हजारों करोड़ का Business करने वाले इस मसाला brand का इतिहास बहुत पुराना है और इसके भारत में पहुंचने से लेकर मसाला किंग बनने तक की कहानी भी काफी Interesting है|

MDH Foundation

MDH मसाले की नींव आजादी से पहले रखी गई थी| Late Mahashay Dharampal Gulati के पिता Mr. Chunni Lal Gulati ने साल 1937 में सियालकोट जो अब पाकिस्तान में है वहां से कारोबार की दुनिया में अपना कदम आगे बढ़ाया था और पहले साबुन, कपड़ा, Hardware, चावल इन सभी चीजों का Business किया और फिर उन्होंने ‘महाशय डी हट्टी’ की स्थापना की थी। उस समय उन्हें देगी मिर्च वाले के नाम से पहचाना जाता था| फिर India-Pakistan Partition के वक्त इनका परिवार 1947 में दिल्ली आ गया था|

ऐसे शुरू किया व्यापार

Mahashay Dharampal Gulati ने शुरू से ही अपने पिता के व्यापार में हाथ बंटाना शुरू कर दिया था और जब Partition के वक्त ये दिल्ली आए, तो उनके पास सिर्फ 1500 रुपये थे| उन्होंने इनमें से 650 रुपये खर्च कर एक तांगा खरीदा और इसे चलाकर अपने परिवार का भरण पोषण करने लगे| इस दौरान उनके मन में अपना पारिवारिक मसाले का व्यापर करने का विचार भी उमड़ रहा था, इसके लिए उनकी तांगा चलाकर जो भी earnings होती, उसमें से एक हिस्सा बचाकर जमा करते रहते थे| जब कुछ पैसे इकठ्ठा हो गए, तो Dharampal Gulati ने दिल्ली के करोल बाग में अजमल खां रोड पर मसालों की एक छोटी दुकान खोली |

करीब दो महीने तांगा चलाकर और पैसे जुटाकर Dharampal Gulati ने ‘महाशियां दी हट्टी’ को दिल्ली में पहुंचा दिया और इसका पंजीकरण भी महाशियां दी हट्टी सियालकोट वाले के नाम से कराया गया| गुलाटी के साथ उनका पूरा परिवार अब अपने मसालों के कारोबार पर धयान देने लगा| देगी मिर्च के साथ उन्होंने हल्दी को भी इसमें शामिल कर लिया| दुकान चलने लगी, तो उन्होंने दूसरे जगहों पर दुकानें खोलना शुरू कर दिया| इसकी ब्रांच पंजाबी बाग से लेकर खारी बावली तक में खोली गई|

महाशियां दी हट्टी यानी MDH के मसालों का स्वाद लोगों की जुबान पर जैसे-जैसे चढ़ता गया इसका कारोबार भी उसी तेजी के साथ बढ़ता गया और छोटी सी दुकान से शुरू हुआ कारोबार देशभर में फैलने लगा| पहले वे मसाला किसी और से पिसवाते थे, लेकिन व्यापार बढ़ने पर उन्होंने अपनी खुद की फैक्ट्री लगा दी| आज इसकी कई फैक्ट्री, राजस्थान-पंजाब तक नहीं बल्कि Dubai से लेकर London तक हैं|

MDH मसाले महाशियान दी हट्टी Private Limited के अंतर्गत व्यापार करते हैं और देश की प्रमुख मसाला निर्माण कंपनी है| रिपोर्ट के मुताबिक, इस क्षेत्र में करीब 12 percent बाजार हिस्सेदारी MDH मसाले के पास है| Mahashay Dharampal Gulati के साल 2020 में निधन के बाद 2022 में इस मसाला ब्रांड को बेचे जाने की खबरें भी सुर्खियों में बनी थीं और इसकी डील हिंदुस्तान यूनिलीवर के साथ हो रही थी| उस
वक्त जो रिपोर्ट जारी की गई थीं, उनके मुताबिक मार्च 2022 में MDH Value 10-15 हजार करोड़ रुपये आंकी गई थी।

मुश्किलों में घिरा MDH

पाकिस्तान से निकलकर दिल्ली पहुंचा और फिर मसाला किंग बना MDH ब्रैंड आज मुश्किलों में घिरा हुआ है| पहले Hong Kong में MDH के मद्रास करी पाउडर, सांभर सांभर मसाला पाउडर और करी पाउडर पर खतरनाक कीटनाशकों के इस्तेमाल की बात कहते हुए बिक्री पर रोक लगाई गई. इनमें एग्रीकल्चर प्रोडक्ट्स में कीटनाशक के तौर पर इस्तेमाल किए जाने वाले एथिलीन ऑक्साइड को मिलाने की बात कही गई|

इसके बाद मालद्वीव में इसकी बिक्री रोक दी गई और अब खबर आ रही है कि अमेरिकी फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (FDA) ने MDH मसालों में इस तरह के कीटनाशक के इस्तेमाल का पता लगाने की रिपोर्ट्स के बाद अपनी जांच शुरू कर दी है. हालांकि, मसाला किंग की ओर से इन आरोपों को सिरे से खारिज किया गया है |

NOTE: News Source Social Optical

author avatar
Editor Two
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Blog

बेतहाशा Online रहने व सोशल मीडिया को असल दुनिया मानकर जीने वाले खुद पर नियंत्रण खो रहे; अंधाधुंध स्क्रॉलिंग से बचें

Published

on

कुछ दिन पहले एक वीडियो में 10 साल की बच्चियों को महंगे ब्रांड के स्किन प्रोडक्ट की तारीफ करते और एंडोर्स करते दिखाया गया तो सोशल मीडिया यूजर्स और एक्सपर्ट ने आपत्ति जताई थी। उनका तर्क था कि बच्चियों को इन प्रोड्क्टस की जरूरत ही नहीं है न ही आने वाले वर्षों में होगी…। इसी तरह अब मिडिल क्लास में पढ़ने वाले बच्चे जिम जॉइन करने लगे हैं। एक्सपर्ट के मुताबिक यह ब्रेन रोट की स्थिति है। ब्रेन रोट यानी डिजिटल मीडिया के ज्यादा इस्तेमाल से सोचने-समझने की क्षमता में कमी।दरअसल जब हम जरूरत से ज्यादा Online रहते हैं और सोशल मीडिया पर ज्यादा वक्त बिताते हैं तो उसे ही असली दुनिया समझने लगते हैं।

उनकी बातचीत में भी इंटरनेट की दुनिया के शब्द ज्यादा होते हैं। बोस्टन चिल्ड्रन हॉस्पिटल में डिजिटल वेलनेस लैब के प्रमुख डॉ. माइकल रिच के मुताबिक इंटरनेट कंटेंट मस्तिष्क में इस कदर घुसपैठ कर सकता है कि लोगों का इस बात पर भी नियंत्रण नहीं रह जाता कि वे क्या कह रहे हैं, उन्हें बस वही मीम बोलना होता है जो वे देखते रहते हैं। लगातार ऐसे इंटरनेट कंटेंट से जुड़े होने के चलते वे वास्तविक दुनिया से दूर हो जाते हैं।

लैब में इलाज के लिए पहुंचा 18 साल का जोशुआ रोड्रिग्ज कहता है कि पहले वह पूरे समय फोन स्क्रॉल करते हुए वीडियो देखता रहता था। पढ़ाई में भी मन नहीं लगता था। खुद पर नियंत्रण ही नहीं रह गया था। ट्रीटमेंट के बाद अब सोशल मीडिया पर महज 15 मिनट बिताता है। वेलनेस लैब के एक्सपर्ट ब्रेन रोट को एक तरह का विकार मानते हैं।

इसमें यूजर्स बिना सोचे-समझे स्क्रॉल करने या लंबे समय तक गेमिंग सेशन्स के साथ इस कदर जुड़ जाते हैं कि मानो सुन्न हो गए हों। डॉ. रिच कहते हैं, ‘हमारा लक्ष्य माता-पिता और बच्चों को बेहतर ऑनलाइन आदतें विकसित करने में मदद के लिए प्रोत्साहित करना है। क्योंकि बच्चों को टेक्नोलॉजी से दूर करना तो सही नहीं होगा। इससे बच्चों की फोन से जुड़ने की इच्छा और बढ़ेगी। हमें इंटरनेट और फोन के इस्तेमाल पर बहस को ‘अच्छा बनाम बुरा’ से ‘स्वस्थ बनाम कम स्वस्थ’ में बदलना है।’

author avatar
Editor Two
Continue Reading

Blog

सामान तो किराये पर देते देखा होगा , पर क्या अपने कभी Women को किराये पर देते देखा है ?

Published

on

कार, मकान किराये पर देना और बाकि चीजें बहुत आम बात हैं, आपने Woman Womb की Renting के बारे में भी सुना होगा, लेकिन क्या आपने कभी पत्नी को किराये पर देने के बारे में सुना है| एक ऐसा देश है जहां पर Madhya Pradesh के इस खास गांव में आप एक हफ्ते के लिए पत्नी को किराए पर ले सकते हैं।

पहले दोनों पार्टी एक सौदा करते हैं और उस विशेष महिला के लिए किराए की Amount fixed करते हैं और एक बार जब दोनों तरफ से सौदा पूर्ण हो जाती है तो वे एक करारनामा पर Sign करते हैं। इस संपूर्ण प्रक्रिया में उस विशेष महिला की Renting official Government Stamp से लिखी जाती है, उस Stamp paper में यह उल्लेख किया जाएगा कि उस lady को उस आदमी के साथ कितने दिनों तक रहना होगा जैसे 1 week, 1 month, 6 months or a year |

जब Agreements की अवधि ख़तम हो जाती है तब , उस महिला को उसके परिवार या फिर पति के पास वापस भेज दिया जाता है। ताकि उसे फिर से एक नए ग्राहक को किराए पर दिया जा सके। और लड़कियों की Buying और Selling की इस प्रथा को Dhadicha Pratha कहा जाता है और जिन औरतो को किराए पर दिया जा रहा है उन्हें Molki कहा जाता है।

जिसका मतलब है कीमत और contract period के अंत में लड़की के स्वामित्व को अतिरिक्त राशि यानि ज्यादा पैसे में तबादला किया जा सकता है | अगर वो आदमी चाहे तो। Contract को updated भी किया जा सकता है वो Womens Contract से हट सकती हैं अगर वो चाहे तो। yes there is a rule like that लेकिन इसका मतलब यह नहीं है की She Empowered to use it |

Contract से हटने के लिए Womens को एक affidavit देना होगा उसके बाद Womens को Predetermined Rental Amount वापस करना होगा। Womens बाकि किसी भी Customers से ज़ादा पैसे Accept करना भी Contract का उल्लंघन है और अगर वो Male person जिसने उस Lady से Contract किया है|

वह उस particular lady के साथ Contract जारी रखना चाहता है तो वह Additional amount Pay कर सकता है और ownership जारी रख सकता है। वो Market जहाँ Womens Rent होती है उसके कुछ Serious and severe rules and regulations हैं, The Younger The Girl, The Higher the Price यानि लड़की जितनी छोटी होगी कीमत भी उतनी ही ज्यादा होगी अगर आप अभी भी still confused हैं तो यह एक young unmarried girl होती है।

उसके Parents उसे rent पर देंगे और अगर वो एक married woman है तो उसका Husband उसे rent पर देगा। और अगर वो लड़की virgin है, Attractive है, उसकी skin bright है और वो body shape में है, तो उसका price 2 लाख या उससे भी ज्यादा हो सकता है, इसलिए इन लड़कियों को और ज्यादा सुंदर दिखाने के लिए उनके Parents उन्हें उनके breast size और Body बढ़ाने के लिए कुछ medicines भी देते हैं।

जब पहली बार 8 to 15 years के बीच की virgin लड़कियों को rent पर दिया जाता है, तो ज्यादा अमीर customers को Attract करने और ज्यादा amount received करने के लिए बाजार में उनकी Demand बढ़ जाती है, जबकि non-virgin लड़कियां जो 10 से 15 साल की बिच की है उन्हें सस्ते में rent पर दिया जाता है।

उनके ऐसा करने का Main Reason है Poverty, literacy, unemployment, unequal sex ratio और सबसे Important बात यह है कि They think they own The women , कई लोग इसे inhumane options सोचते हैं क्योंकि यह जल्दी से बहुत सारा पैसा कमाने का एक आसान तरीका है।

हम आम तौर पर सोचते हैं कि इन activities में शामिल males poor and uneducated होंगे और उन्हें society में Lower class का label दिया जाएगा, लेकिन ऐसा नहीं है Rich families के Males ,अच्छे educated families के Males , जिन्हें Society में High class माना जाता है, बो इन बाजारों में आ रहे हैं।

Imagine What A Good Deal This Is! उन्हें शादी पर इतना पैसा खर्च करने की ज़रूरत नहीं है, साथ ही उन्हें Lifetime तक एक के साथ बंधे रहने की ज़रूरत नहीं है, वो Males जिनके पास proper job नहीं है ,जो बहुत बूढ़े है , जो widow man हैं और ऐसे males जिन्हें अपने इलाके में लड़कियां नहीं मिलती हैं, बो Bride को किराए पर लेने के लिए ऐसे बाजारों में आते हैं।

ये Rented Custom यानि किराये की प्रथा दशकों से चलती आ रही है लोग इसे अपनी सांस्कृतिक रिवाज़ो से जोड़कर देखते है Govt भी इस प्रथा को बंद नहीं करवाती है क्युकी ये प्रथा यहाँ के लोगो के सहमति से होती है और इस तरह की कुप्रथाएं देकर ऐसा लगता है की हमारा देश आगे बढ़ रहा है या नहीं। आप इसके बारे में क्या सोचते है हमने comment box में जरुरु बतियेगा और ऐसी ही और Videos देखने की लिए के जुड़े रहिये हमारे चैनल्स के साथ।

author avatar
Editor Two
Continue Reading

Blog

Testing Sync

Published

on

author avatar
superadmin
Continue Reading

Trending