Connect with us

National

तीन नए अधिनियमित आपराधिक Laws की लिस्ट

Published

on

देश में तीन नए आपराधिक Laws लागू हो गए है, जो भारत की आपराधिक न्याय प्रणाली में बदलाव लाएंगे। भारतीय न्यायिक संहिता (बीएनएस) 2023, भारतीय नागरिक सुरक्षा संहिता (बीएनएसएस) 2023 और भारतीय सहायक नियम (बीएसए) 2023 आज से पूरे देश में लागू हो गए हैं।

इन तीनों कानूनों ने क्रमशः ब्रिटिश काल के कानूनों भारतीय दंड संहिता (आईपीसी), आपराधिक प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) और भारत साक्ष्य उपखंड का स्थान ले लिया। आज से सभी नई एफआईआर बीएनएस के तहत दर्ज की जाएंगी| हालाँकि, इस कानून के लागू होने से पहले दायर मामलों का अंतिम निपटारा पुराने कानूनों के तहत ही किया जाता रहेगा। नए कानून ‘जीरो एफआईआर’, पुलिस शिकायतों की ऑनलाइन फाइलिंग, इलेक्ट्रॉनिक माध्यम जैसे एसएमएस के जरिए समन भेजने और सभी गंभीर अपराधों के दृश्य की अनिवार्य वीडियोग्राफी जैसे प्रावधानों के साथ एक आधुनिक न्याय प्रणाली स्थापित करेंगे।

समय सीमा तय: हमारा प्रयास 3 साल के भीतर न्याय हासिल करने का होगा।


  • * 35 भागों में समयरेखा जोड़ी गई
    * यदि शिकायत इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से दर्ज कराई गई है तो 3 दिन के भीतर एफआईआर दर्ज कराएं।
    * यौन उत्पीड़न की जांच रिपोर्ट 7 दिन के भीतर भेजनी होगी।
    * पहली सुनवाई के 60 दिनों के भीतर आरोप दायर किए जाएंगे।
    * दोषी अपराधियों पर 90 दिनों के भीतर अनुपस्थिति में मुकदमा चलाया जाना चाहिए
    * आपराधिक मामलों में सुनवाई पूरी होने के 45 दिनों के भीतर फैसला सुनाया जाएगा नया आपराधिक कानून “न्याय पर केंद्रित है, सज़ा पर नहीं”

  • सामुदायिक सज़ा: छोटे अपराधों के लिए भारतीय न्याय दर्शन के अनुसार
  • 5000 रुपये से कम की चोरी के लिए सामुदायिक सेवाओं का प्रावधान।

* सामुदायिक सेवाओं के 6 अपराधों में महिलाओं और बच्चों के खिलाफ अपराध शामिल है

  • * प्राथमिकता: महिलाओं और बच्चों के खिलाफ अपराध (पहला खजाना लूटना था)
  • * बीएनएस में ‘महिलाओं और बच्चों के खिलाफ अपराध’ पर नया अध्याय
  • * महिलाओं और बच्चों के खिलाफ अपराध से संबंधित 35 धाराएं हैं,
  • * सामूहिक बलात्कार: 20 वर्ष कारावास/आजीवन कारावास नाबालिग से सामूहिक बलात्कार: मृत्युदंड/आजीवन कारावास झूठे वादे/छिपाकर सेक्स करना अब अपराध है
  • * पीड़िता का बयान उसके आवास पर महिला अधिकारी के समक्ष दर्ज किया गया.
  • * पीड़िता के अभिभावक की मौजूदगी में बयान दर्ज किये जायेंगे. प्रौद्योगिकी का उपयोग
  • * विश्व की सबसे आधुनिक न्यायिक प्रणाली का निर्माण करना
  • * इसमें अगले 50 वर्षों में आने वाली सभी आधुनिक तकनीकें शामिल होंगी।
  • कम्प्यूटरीकरण: पुलिस जांच से न्यायालय तक की प्रक्रिया।
  • * ई-रिकॉर्ड
  • * जीरो एफआईआर, ई-एफआईआर, चार्ज शीट… डिजिटल होंगी
  • * 90 दिन में पीड़ित को मिलेगी जानकारी
  • फॉरेंसिक अनिवार्य: 7 साल या उससे अधिक की सजा वाले मामलों में
  • * जांच में वैज्ञानिक पद्धति को बढ़ावा देना
  • * सजा दर को 90% तक ले जाने का लक्ष्य
  • सभी राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों में फोरेंसिक अनिवार्य है

* राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों में बुनियादी ढांचा 5 साल में तैयार हो जाएगा

  • * जनशक्ति के लिए राज्यों में एफएसयू शुरू करना
  • * फोरेंसिक बुनियादी ढांचे को मजबूत करने के लिए विभिन्न स्थानों पर प्रयोगशालाओं की स्थापना। पीड़ित-केंद्रित कानून
  • * पीड़ित-केंद्रित कानूनों की 3 प्रमुख विशेषताएं
  1. * पीड़ित को अपने विचार व्यक्त करने का अवसर
  2. सूचना का अधिकार और नुकसान की भरपाई का अधिकार
  • * शून्य एफआईआर दर्ज करने को संस्थागत बनाया गया
  • * अब कहीं भी दर्ज कराई जा सकेगी FIR
  • * पीड़ित को एफआईआर की प्रति नि:शुल्क पाने का अधिकार है

90 दिनों के भीतर जांच में प्रगति की जानकारी देशद्रोह और ‘देशद्रोह’ की परिभाषा को हटाना

*गुलामी के सारे लक्षण मिटा दो | अंग्रेजों के राजद्रोह कानून राज्यों (देश) के लिए नहीं बल्कि शासन के लिए थे। ‘देशद्रोह’ को उखाड़ फेंका गया हालाँकि, राष्ट्रविरोधी गतिविधियों के लिए कड़ी सज़ा| भारत की संप्रभुता और अखंडता के खिलाफ कृत्यों के लिए पुलिस की जवाबदेही बढ़ाकर 7 साल या आजीवन कारावास कर दी गई| तलाशी और जब्ती में वीडियोग्राफी अनिवार्य है |

  • गिरफ्तार व्यक्तियों के बारे में जानकारी देना अनिवार्य है
  • 3 वर्ष से कम/60 वर्ष से अधिक की आजीवन कारावास की सजा के लिए पुलिस अधिकारी की पूर्व अनुमति अनिवार्य है
  • गिरफ्तार व्यक्ति को 24 घंटे के भीतर मजिस्ट्रेट के सामने पेश करना होगा। 20 से अधिक ऐसी धाराएं हैं जो पुलिस की जवाबदेही सुनिश्चित करेंगी। पहली बार प्रारंभिक परीक्षा की व्यवस्था की गई
author avatar
Editor Two
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

National

Bihar: किशनगंज में भयानक सड़क हादसा, ट्रक और Scorpio में हई जबरदस्त टक्कर

Published

on

एनएच 327 ई पर रविवार सुबह करीब 9 बजे ट्रक और Scorpio के बीच जोरदार टक्कर हो गई। इस बीच स्कॉर्पियो में सवार तीन लोगों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि दो लोगों की अस्पताल ले जाते वक्त मौत हो गई | 

Scorpio में सवार आठ लोग घायल हो गए हैं और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है| घायलों में ज्यादातर बच्चे है|सभी मृतक और घायल अररिया जिले के जोकीहाट प्रखंड के थपकोल के रहने वाले हैं|

बताया जा रहा है कि सभी एक ही परिवार के हैं| सभी लोग अररिया से बागडोगरा जा रहे थे| कार में चार बुजुर्ग और अन्य बच्चे थे। स्कॉर्पियो के ट्रक से टकराने की तेज आवाज सुनकर आसपास के लोग मौके पर पहुंचे और पुलिस को सूचना दी, पुलिस ने बचाव कार्य शुरू किया|

सूचना मिलने पर ठाकुरगंज के एसडीपीओ मंगलेश कुमार पक्काखाली थानाध्यक्ष के साथ पहुंचे और स्कॉर्पियो का दरवाजा तोड़कर अंदर फंसे लोगों को बाहर निकाला. इसी बीच तीनों की मौके पर ही मौत हो गई| किशनगंज माता गुजरी मेडिकल कॉलेज ले जाने के क्रम में दो लोगों की मौत हो गयी|

सूचना मिलते ही अररिया के जोकीहाट विधायक और पूर्व मंत्री शाहनवाज आलम मौके पर पहुंचे और फिर अस्पताल के लिए रवाना हो गये. उन्होंने इस हादसे पर दुख जताया है. सूचना मिलने पर अररिया के मृतकों और घायलों के परिजन भी अस्पताल पहुंचे|
author avatar
Editor Two
Continue Reading

National

PM Modi के नाम दर्ज हुआ एक और बड़ा रिकॉर्ड, X पर हुए 100 Million Followers

Published

on

लगातार तीसरी बार जीतकर सत्ता में आए PM Modi के नाम एक और रिकॉर्ड जुड़ गया है| प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता तेजी से बढ़ी है| यही वजह है कि वह सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर सबसे ज्यादा फॉलो किए जाने वाले नेता बनकर उभरे हैं। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ‘एक्स’ पर उनके फॉलोअर्स की संख्या 100 मिलियन यानी 10 करोड़ से ज्यादा हो गई है। इस पर प्रधानमंत्री ने खुशी जाहिर की है|

अगर देश के अन्य नेताओं से तुलना करें तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी काफी आगे निकल गए है| लोकसभा में विपक्ष के नेता राहुल गांधी के एक्स पर 26.4 मिलियन फॉलोअर्स हैं। जबकि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के पास 2 करोड़ 75 लाख रुपये हैं| एक्स पर समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव के 19.9 मिलियन फॉलोअर्स हैं, जबकि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के 7.4 मिलियन फॉलोअर्स हैं। एक्स पर लालू यादव के 6.3 मिलियन फॉलोअर्स हैं, तेजस्वी यादव के 5.2 मिलियन फॉलोअर्स हैं जबकि एनसीपी प्रमुख शरद पवार के 2.9 मिलियन फॉलोअर्स हैं।

देश ही नहीं बल्कि दुनिया भर के नेताओं की बात करें तो पीएम मोदी अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन, दुबई के शासक पोप फ्रांसिस से कोसों दूर हैं. बिडेन को केवल 38.1 मिलियन लोग फॉलो करते हैं, जबकि दुबई के शासक एचएच शेख मोहम्मद के 11.2 मिलियन फॉलोअर्स हैं। पीएम मोदी की लोकप्रियता दुनिया के हर देश और कोने-कोने में दिख रही है. यही कारण है कि उनके अनुयायी सिर्फ भारत से ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया से हैं।

इतना ही नहीं, मोदी के दुनिया भर के मशहूर खिलाड़ियों से भी ज्यादा फॉलोअर्स हैं। क्रिकेटर विराट कोहली को 64.1 मिलियन और ब्राजीलियाई फुटबॉलर नेमार जूनियर को 63.6 मिलियन लोग फॉलो करते हैं। अमेरिकी बास्केटबॉल खिलाड़ी लेब्रोन जेम्स को एक्स पर 52.9 मिलियन लोग फॉलो करते हैं। सुपरस्टार टेलर स्विफ्ट के 95.3 मिलियन फॉलोअर्स हैं, उसके बाद लेडी गागा के 83.1 मिलियन और किम कार्दशियन के 75.2 मिलियन हैं |

author avatar
Editor Two
Continue Reading

National

केंद्रीय गृह मंत्री ने किया बड़ा ऐलान, हर साल 25 June को संविधान हत्या दिवस मनाया जाएगा

Published

on

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शुक्रवार को घोषणा की कि अब हर साल 25 June को संविधान हत्या दिवस मनाया जाएगा। यह सवाल उठना स्वाभाविक है कि गृह मंत्री ने ऐसा क्यों कहा| दरअसल, 25 June 1975 को देश में आपातकाल लगाया गया था।

यही वजह है कि कांग्रेस की तत्कालीन इंदिरा गांधी सरकार द्वारा किए गए इस कृत्य को बार-बार सभी को याद दिलाने के लिए यह कदम उठाया जा रहा है| अमित शाह ने अपने ऑफिशियल एक्स हैंडल से इसकी घोषणा की|

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि ‘संविधान हत्या दिवस’ मनाने से प्रत्येक भारतीय के मन में व्यक्तिगत स्वतंत्रता और लोकतंत्र की रक्षा की अमर लौ जलती रहेगी। केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा आज जारी एक गजट अधिसूचना में कहा गया है कि 25 जून, 1975 को आपातकाल की घोषणा की गई थी, जिसके बाद ‘उस समय की सरकार ने सत्ता का दुरुपयोग किया और भारतीयों पर ज्यादतियां और अत्याचार किए।’ इसमें कहा गया है कि भारत की जनता को संविधान और उसके लोकतंत्र पर पूरा भरोसा है|

पिछले लोकसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी ने बार-बार बीजेपी पर संविधान बदलने का आरोप लगाया है. सरकार के 400 पार के नारे पर कांग्रेस ने कहा था कि उन्हें संविधान बदलने के लिए ही 400 सीटें चाहिए| अब केंद्र सरकार ने कांग्रेस के इस अभियान को रोकने के लिए यह कदम उठाया है|

author avatar
Editor Two
Continue Reading

Trending