Connect with us

Health

कम उम्र में जिम जाने से हो सकता है कई नुकसान

Published

on

कम उम्र में जिम जाने से हो सकता है कई नुकसान

आजकल हर कोई फिट रहना चाहता है। ये क्रेज युवाओं में ज्यादा देखने को मिल रहा है. इसके लिए वे जिम में घंटों मेहनत करते हैं। इसमें युवा लड़के सिक्स पैक एब्स और मस्कुलर बॉडी बनाने का जुनून रखते हैं, जबकि किशोर लड़कियां जीरो फिगर और स्लिम लुक पाने के लिए जिम शुरू करती हैं। लेकिन कम उम्र में जिम शुरू करना घातक हो सकता है। आपको कई स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं. ऐसे में जरूरी है कि सही उम्र में जिम शुरू किया जाए, ताकि आपको इसका सही फायदा मिल सके। अब सवाल यह है कि जिम शुरू करने की सही उम्र क्या होनी चाहिए?

डॉक्टर बता ते है की, यह सच है कि शारीरिक विकास के लिए व्यायाम बहुत जरूरी है। इसके लिए बच्चा जन्म से ही हाथ-पैर मारना शुरू कर देता है। ऐसा करने से बच्चे के शरीर का विकास होता है और शरीर को लचीलापन और ताकत भी मिलती है। इसके बाद बच्चे को खेलना-कूदना चाहिए, जिससे हड्डियां मजबूत होती हैं। लेकिन जिम जाने से बचना चाहिए. लेकिन कम उम्र में जिम जाने से स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती हैं।

डॉक्टर बता ते है की, यह सच है कि शारीरिक विकास के लिए व्यायाम बहुत जरूरी है। इसके लिए बच्चा जन्म से ही हाथ-पैर मारना शुरू कर देता है। ऐसा करने से बच्चे के शरीर का विकास होता है और शरीर को लचीलापन और ताकत भी मिलती है। इसके बाद बच्चे को खेलना-कूदना चाहिए, जिससे हड्डियां मजबूत होती हैं। लेकिन जिम जाने से बचना चाहिए. लेकिन कम उम्र में जिम जाने से स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती हैं।
अगर आप भी अपने बच्चे को जिम भेजने की सोच रहे हैं तो आप गलत हैं। बेशक 13-14 साल की उम्र में हड्डियां और शरीर के अंग मजबूत हो जाते हैं, लेकिन जिम शुरू करने की यह सही उम्र नहीं है। क्योंकि, यही वह उम्र होती है जब शरीर में लंबाई समेत कई तरह के बदलाव होते हैं। ऐसे में जिम जाने की सही उम्र 20 साल से 50 साल के बीच है। हालाँकि आप चाहें तो 17-18 साल की उम्र में भी जिम शुरू कर सकते हैं। लेकिन, समय और वजन का खास ख्याल रखें।

कम उम्र में जिम शुरू करने से मांसपेशियों को नुकसान होता है और चोट लग सकती है। बॉडीबिल्डिंग, स्टेरॉयड या भारी वर्कआउट से हड्डियां कमजोर हो सकती हैं। मांसपेशियों में दर्द या खिंचाव के साथ-साथ मांसपेशियों में कमजोरी का खतरा भी बढ़ जाता है। जिम में कार्डियो या पावर लिफ्टिंग हृदय गति को बढ़ाकर हृदय को नुकसान पहुंचा सकती है।

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Health

Ear से अगर आती है अजीब अजीब आवाज़े तो हो सकती है ये बीमारी

Published

on

Ear से अगर आती है अजीब अजीब आवाज़े तो हो सकती है ये बीमारी

क्या आपने कभी महसूस किया है कि आपके Ear में हर समय एक अजीब सी आवाज आती रहती है, जबकि यह आवाज दूसरों को सुनाई नहीं देती है? अगर ऐसा अक्सर होता है तो इसे हल्के में न लें। दरअसल, यह बजने या सीटी बजने की आवाज Tinnitus disease का एक लक्षण है। अगर इस disease का समय पर इलाज न किया जाए तो व्यक्ति बहरा हो सकता है और mental form से भी परेशान रह सकता है।

दरअसल, यह Ear की नस में विकार के कारण होता है, जिसे दवा या surgery की मदद से कम किया जा सकता है। लेकिन अगर यह बहुत ज्यादा खराब हो जाए तो यह आपके लिए सोने, जागने और काम करने में स्थायी समस्या पैदा कर सकता है।

Causes of Tinnitus Disease

कभी-कभी Ear में छोटी सी रुकावट के कारण भी ऐसा हो सकता है। इसके अलावा, कानों में तेज सीटी बजने या बजने की आवाज के कारण सुनने की क्षमता में कमी, कान में संक्रमण, sinus infection, heart disease, circulatory system infection, brain tumors, hormonal changes, बढ़े हुए थायराइड के कारण भी हो सकते हैं।

Tinnitus disease का इलाज कैसे किया जा सकता है ?

Tinnitus के लक्षणों को कम करने के लिए ध्वनि आधारित therapy का उपयोग किया जाता है। इसके लिए एक उपकरण का उपयोग किया जाता है जो बाहरी sound को बढ़ा देता है और Mind इस ध्वनि से राहत महसूस कर पाता है। hearing aid , sound masking device, customized sound machine आदि ऐसे उपकरण हैं जो कानों में लगाए जाते हैं।

Behavioral therapy

Tinnitus अत्यधिक भावनात्मक तनाव, अनिद्रा, अवसाद के कारण भी होता है, इसके इलाज के लिए विभिन्न प्रकार की Behavioral therapy का उपयोग किया जाता है। cognitive Behavioral therapy , प्रोग्रेसिव टिनिटस मैनेजमेंट आदि की मदद से इससे छुटकारा पाने की कोशिश की जाती है।

Medicines
Tinnitus रोग के उपचार के लिए आमतौर पर केवल चिंता-रोधी और अवसाद-रोधी दवाओं का उपयोग किया जाता है। Doctor आपके लक्षणों को देखते हैं और उसके आधार पर दवा लिखते हैं।

lifestyle में बदलाव

अगर आप मानसिक तनाव में हैं तो इसके लक्षण बढ़ सकते हैं। इसलिए तनाव और चिंता को दूर करने के लिए व्यायाम, योग, ध्यान, उचित आहार, सामाजिक जीवन आदि बहुत महत्वपूर्ण हैं।

यदि आप इसे नजरअंदाज करते हैं, तो आप चेहरे के paralysis से पीड़ित हो सकते हैं और स्थायी रूप से बहरे हो सकते हैं। कभी-कभी इंसान इतना परेशान हो जाता है कि अपनी जान लेने की कोशिश करने लगता है। ऐसे में जरूरी है कि आप Doctor के संपर्क में रहें और जितना हो सके therapeutic सहायता लें। हालांकि इसका इलाज अभी तक संभव नहीं है लेकिन इन Therapy की मदद से इसके symptoms को कम किया जा सकता है ताकि कम से कम परेशानियों का सामना करना पड़े।

Continue Reading

Health

Chaitra Navaratri 2024: उपवास के दौरान सेहतमंद भोजन – 5 स्वास्थ्यप्रद आहार

Published

on

food to eat in Chaitra Navaratri

Chaitra Navaratri के आसपास आते ही, उपासना करने वाले भक्तों के बीच उपवास एक सामान्य अभ्यास बन जाता है जिसके माध्यम से आध्यात्मिक शुद्धि और नवीनीकरण प्राप्त किया जाता है। इस अवधि के दौरान कुछ स्वस्थ भोजन का सेवन करना महत्वपूर्ण है ताकि पोषण और ऊर्जा स्तर को सुनिश्चित किया जा सके। यहाँ चैत्र नवरात्रि 2024 के दौरान आपके उपवास कार्यक्रम में शामिल करने के लिए पाँच स्वास्थ्यप्रद आहार हैं:

मौसमी फल (Seasonal Fruits)

फल आवश्यक विटामिन, खनिज और एंटीऑक्सीडेंट से भरे प्रकृति के उपहार हैं। सेब, केला, संतरा, जामुन और अनार जैसे विभिन्न प्रकार के फलों का चयन करें। ये फल न केवल स्वादिष्ट होते हैं बल्कि उपवास के दौरान त्वरित ऊर्जा को बढ़ावा भी देते हैं। आप उन्हें पूरे फल के रूप में खा सकते हैं या पूरे दिन खुद को हाइड्रेटेड और ऊर्जावान रखने के लिए उन्हें ताज़ा स्मूदी में मिला सकते हैं।

बादाम और बीज (Nuts and seeds)

नट्स और बीज प्रोटीन, स्वस्थ वसा और फाइबर से भरे पावरहाउस स्नैक्स हैं, जो उन्हें उपवास के दिनों के लिए एक आदर्श विकल्प बनाते हैं। भूख लगने पर बादाम, अखरोट, पिस्ता, कद्दू के बीज और सूरजमुखी के बीज खाने के लिए उत्कृष्ट विकल्प हैं। वे रक्त शर्करा के स्तर को बनाए रखने में मदद करते हैं, आपको लंबे समय तक भरा हुआ महसूस कराते हैं, और समग्र स्वास्थ्य का समर्थन करने के लिए आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करते हैं।

मखाना (Fox Nuts)

एक पोषण शक्ति, मखाना एक मुख्य व्रत भोजन है। ये छोटे मेवे प्रोटीन, फाइबर, जटिल कार्बोहाइड्रेट और स्वस्थ वसा से भरे होते हैं। इन्हें भुना जा सकता है, उबला जा सकता है या खीर (खीर) में एक संतोषजनक और पौष्टिक नाश्ते के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

कुट्टू का आटा (Buckwheat flour)

बकव्हीट आटा एक लस मुक्त विकल्प है जिसका सेवन आमतौर पर उपवास अवधि के दौरान किया जाता है। यह प्रोटीन, फाइबर और मैग्नीशियम और मैंगनीज जैसे आवश्यक खनिजों से भरपूर होता है। अनाज के आटे का उपयोग रोटी, पेनकेक्स और दलिया सहित विभिन्न प्रकार के व्यंजन तैयार करने के लिए किया जा सकता है। इसका नट स्वाद आपके भोजन में एक अनूठा स्वाद जोड़ता है और आपको भरा हुआ और संतुष्ट महसूस करने के लिए निरंतर ऊर्जा प्रदान करता है।

साबूदाना (Tapioca pearls)

साबूदाना अपनी उच्च कार्बोहाइड्रेट सामग्री के कारण उपवास व्यंजनों में उपयोग किया जाने वाला एक लोकप्रिय घटक है, जो तत्काल ऊर्जा प्रदान करता है। यह लस मुक्त और पचाने में आसान है, जो इसे आहार प्रतिबंधों या संवेदनशील पेट वाले लोगों के लिए एक उत्कृष्ट विकल्प बनाता है। साबूदाना खीचड़ी, साबूदाना वडा और साबूदाना खीर कुछ स्वादिष्ट व्यंजन हैं जिन्हें आप नवरात्रि उपवास के दौरान टैपिओका मोतियों का उपयोग करके बना सकते हैं।

चैत्र नवरात्रि 2024 के दौरान, आप अपनी उपवास अनुभव को अधिक उत्कृष्ट बनाने के लिए ये पोषण से भरपूर भोजनों पर ध्यान देने के लिए समर्पित रहें। जल संतुलन बनाए रखें, पर्याप्त आराम लें, और इस आध्यात्मिक पुनरावृत्ति और नवीनीकरण के शुभ समय का समर्थन करने के लिए अपने स्वास्थ्य और कल्याण को समर्थन करने के लिए सचेत चुनाव करें।

Continue Reading

Health

सेहत के लिए ये मशरूम है बहुत फायदेमंद, नशे की लत पर भी प्रहार

Published

on

By

सेहत के लिए ये मशरूम है बहुत फायदेमंद, नशे की लत पर भी प्रहार

हमारी धरती पर कई प्रकार के मशरूम पाए जाते हैं। इनमें से कुछ प्रजातियाँ खाने योग्य हैं और कुछ बहुत जहरीली हैं। कुछ इतने जहरीले होते हैं कि यह जीवन के लिए खतरा हो सकते हैं। हालाँकि, आज हम जिस प्रसिद्ध के बारे में बात करने जा रहे हैं वह है Psilocybin। यह एक दुर्लभ प्रकार का मशरूम है. सीएनएन की एक रिपोर्ट के मुताबिक, यह दिमाग को रीवायर करने का काम करता है। एक क्लिनिकल परीक्षण में पाया गया है कि अगर इसे एक या अधिक खुराक में लिया जाए, तो गंभीर अवसाद से पीड़ित लोगों के जीवन पर इसका जादुई प्रभाव पड़ता है। यहां तक ​​कि अमेरिकी खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने भी साइलोसाइबिन को एक दवा के रूप में वर्गीकृत किया है।

साइलोसाइबिन मशरूम में साइकोएक्टिव गुण होते हैं जो सिरदर्द, चिंता, एनोरेक्सिया, जुनूनी बाध्यकारी विकार और नशीली दवाओं के दुरुपयोग जैसे व्यसनों से छुटकारा दिला सकते हैं। प्रारंभ में यह अफ्रीका और लैटिन अमेरिका में पाया जाता था लेकिन आजकल यह पूरी दुनिया में पाया जाता है और हर जगह उगाया जाता है। कई स्थानों पर इसे प्रयोगशालाओं में उगाया जाता है। आइए जानते हैं इसके फायदों के बारे में..

डिप्रेशन और चिंता में फायदेमंद- साइलोसाइबिन में चिंता, डिप्रेशन और बेचैनी जैसी मानसिक समस्याओं को दूर करने की क्षमता होती है। इससे डिप्रेशन की समस्या से बहुत जल्दी राहत मिलती है। अमेरिका और यूरोप में साइलोसाइबिन मशरूम का उपयोग औषधीय रूप में किया जाता है।

कैंसर से जुड़ी मानसिक परेशानियां दूर होती हैं- अगर किसी को कैंसर हो जाता है तो कैंसर होने के बाद वह काफी उदास हो जाता है। वह मानसिक रूप से उदास हो जाता है। यह जादुई मशरूम कैंसर के बाद अवसाद को कम करने में मदद करता है।

नशीली दवाओं की लत से छुटकारा – जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने पाया है कि साइलोसाइबिन मशरूम सिगरेट, शराब, कोकीन या अन्य दवाओं की लत से छुटकारा पाने में मदद कर सकता है। इसके लिए एक अध्ययन भी किया गया जिसमें पाया गया कि जिन लोगों को शराब या ड्रग्स की बुरी आदत थी उन्हें साइलोसाइबिन के सेवन से काफी फायदा हुआ।

Continue Reading
Advertisement

Trending