Connect with us

Delhi

Ram Mandir: न आंखों की चोट देखी, न रातों की नींद… रामलला की मूर्ति के लिए अरुण योगीराज ने दिन-रात किया एक

Published

on

नेशनल डेस्क: अयोध्या के राम मंदिर में मूर्तिकार अरुण योगीराज की तराशी हुई ‘रामलला’ की मूर्ति को गर्भगृह में स्थापित किया जाएगा। मूर्तिकार योगीराज ने इस मूर्ति को दिव्य और आलौकिक स्वरूप प्रदान करने के लिए दिन रात एक कर दिया था। उन्होंने न आंख पर लगी चोट की परवाह की और न ही नींद की। योगीराज के परिवार ने यह जानकारी दी।

इस उपलब्धि से बेहद खुश- पत्नी
कर्नाटक में मैसुरु के मूर्तिकार का परिवार खुशी से झूम रहा है क्योंकि अयोध्या राम मंदिर ट्रस्ट ने उनके द्वारा बनाई गए ‘रामलला’ की मूर्ति को राम मंदिर में स्थापना के लिए चुना है। योगीराज की पत्नी विजेयता ने कहा कि वह इस उपलब्धि से बेहद खुश हैं। उन्होंने एक किस्सा भी साझा किया जिसमें बताया गया कि कैसे मूर्ति बनाते समय योगीराज की आंख में चोट लग गई थी। उन्होंने संवाददाताओं से कहा, “मैं बहुत खुश हूं। हमें यह नेक काम करने का दायित्व सौंपा गया है।”

विजेयता ने कहा, ‘जब यह कार्य (योगीराज को) दिया गया तो हमें पता चला कि इसके लिए उचित पत्थर मैसूरु के पास उपलब्ध है। हालांकि, वह पत्थर बहुत सख्त था। इसकी नुकीली परत उनकी आंख में चुभ गई और उसे ऑपरेशन के जरिए निकाला गया। दर्द के दौरान भी वह नहीं रुके और काम करते रहे। उनका काम इतना अच्छा था कि हर कोई प्रभावित हुआ। हम सभी को धन्यवाद देते हैं।’ उन्होंने कहा, ‘वो (योगीराज) कई रात सोए नहीं और रामलला की मूर्ति बनाने में तल्लीन रहे। ऐसे भी दिन थे जब हम मुश्किल से बात करते थे और वह परिवार को भी मुश्किल से समय देते थे। अब ट्रस्ट की सूचना से सारी मेहनत की भरपाई हो गई है।’

पिती से सीखीं मूर्तिकला की बारीकियां
योगीराज के भाई सूर्यप्रकाश ने कहा कि यह परिवार के लिए एक यादगार दिन है। उन्होंने कहा, “योगीराज ने इतिहास रचा है और वह इसके हकदार थे। यह उनकी कड़ी मेहनत और समर्पण है जो उन्हें इतनी ऊंचाइयों तक ले गया।” सूर्यप्रकाश ने कहा कि योगीराज ने मूर्तिकला की बारीकियां अपने पिता से सीखीं। वह बचपन से इसे लेकर उत्सुक थे। योगीराज की माता सरस्वती ने संवाददाताओं से कहा कि यह बहुत ही हर्ष की बात है कि उनके बेटे द्वारा निर्मित मूर्ति का चयन किया गया है। उन्होंने कहा, ”जब से हमें यह खबर मिली है कि अरुण द्वारा बनाई गई मूर्ति का चयन (स्थापना के लिए) किया गया है, हम बहुत खुश हैं। हमारा पूरा परिवार प्रसन्न है।”

मंदिर ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने सोमवार को अयोध्या में घोषणा की थी कि नई मूर्ति में भगवान राम को पांच साल के बच्चे के रूप में खड़ी मुद्रा में दर्शाया गया है और कहा कि इसे 18 जनवरी को ‘गर्भगृह’ में ‘आसन’ पर विराजमान किया जाएगा। रामलला की मूर्ति चुने जाने की सूचना जैसे ही बहार आई पड़ोसियों और कुछ नेताओं ने योगीराज के परिवार से मुलाकात की और उनके बेटे की प्रशंसा के रूप में सरस्वती को माला भेंट की। योगीराज ने ही केदारनाथ में स्थापित आदि शंकराचार्य की मूर्ति और दिल्ली में इंडिया गेट के पास स्थापित की गई सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा बनाई है।

मूर्ति बनाने में आई चुनौतियों पर क्या बोले योगीराज?
योगीराज ने रामलला की नई मूर्ति बनाने में आई चुनौतियों के बारे में कहा, ‘‘मूर्ति एक बच्चे की बनानी थी, जो दिव्य हो, क्योंकि यह भगवान के अवतार की मूर्ति है। जो भी कोई मूर्ति को देखें उसे दिव्यता का एहसास होना चाहिए।” प्रख्यात मूर्तिकार ने कहा, ”बच्चे जैसे चेहरे के साथ-साथ दिव्य पहलू को ध्यान में रखते हुए मैंने लगभग छह से सात महीने पहले अपना काम शुरू किया था। मूर्ति के चयन से ज्यादा मेरे लिए यह महत्वपूर्ण है कि ये लोगों को पसंद आनी चाहिए। सच्ची खुशी मुझे तब होगी जब लोग इसकी सराहना करेंगे।”

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi

Delhi: इस बच्चे की हिम्मत को सलाम, बाप का सिर से उठा हाथ तो 10 साल की उम्र में उठाई घर की जिम्मेदारी

Published

on

जब बात किसी अपने की हो, तो लोग कुछ भी करने को तैयार रहते हैं और इसी बात सच कर दिखाया दिल्ली के तिलक नगर में रहने वाले 10 साल के बच्चा ने | इनी दिनों सोशल मीडिया पर ठेले पर रोल बनाते हुए एक बच्चे का वीडियो खूब तेजी से वायरल हो रहा है| इस वीडियो एक 10 साल का बच्चा जसप्रीत दिख रहा है, जिसने अपने पिता को तो खो ही दिया और बल्कि उसकी मां ने भी पिताकी मौत के उसे छोड़ दिया| ऐसे में बच्चे ने अपने और अपनी 14 साल की बहन के खर्चे के लिए Delhi के तिलक नगर में रोल स्टॉल लगाने लगाना शुरू कर दिया |

देखते ही देखते इंटरनेट पर इस लड़के का वीडियो इतना वायरल हो गया कि उद्योगपति आनंद महिंद्रा तक पहुंच गया, जिसके बाद उन्होंने इस लड़के की हालत सुनकर मदद करने के लिए हाथ बढ़ाया है| बच्चे ने बताया कि, कैसे उसके पिता की मौत होने के बाद पूरे परिवार की जिम्मेदारी उसके कंधों पर आ गई| उसने आगे बताया कि अब वो खुद को और अपनी बहन को पालने के लिए रोल की रेहड़ी लगा रहा है. बता दें कि, इस बच्चे का वीडियो पहले भी वायरल हो चुका है|

इस वायरल वीडियो में जसप्रीत नाम का ये बच्चा अपनी दर्द भरी कहानी बताता है की कैसे और क्यों उसने ये ठेला लगाना शुरू किया | इस वीडियो में लड़का बताता है की इस से पहले उसके पिता यह ठेले लगते थे लेकिन ब्रेन टीवी होने के कारण उनकी मौत हो गई | जिसके बाद घर की सारी जिम्मेदारी मेरे पर आ गई |

लड़का ने आगे कहा कि, उसकी मां अब उनके साथ नहीं रहती | हम ठेले लगाने के आलावा पढ़ाई भी करते है | जसप्रीत सिंह से ये जब ये सवाल पूछा गया की इतनी कम उम्र में इतनी मेहनत करने की हिम्मत कहां से आती है, इस पर बच्चे ने कहा कि, ‘मैं गुरु गोविंद सिंह का बेटा हूं. जब तक ताकत है, तब तक लड़ूंगा.’


अब ये वीडियो सोशल मीडिया पर खूब तेज़ी से वायरल हो रहा है | तो वही अब आनंद महिंद्रा भी इस बच्चे की मदद के लिए आगे आए है | उन्होंने कहा की वह इस बच्चे की मदद करना चाहते है और वो उस बच्चे का कॉन्टेक्ट नंबर भी मांग रहे है ताकि वह इस बच्चे की मदद कर सके |

author avatar
Editor Two
Continue Reading

Delhi

 Ghazipur कूड़े के पहाड़ में लगी भीषण आग 13 घंटे बाद भी बेकाबू क्यों , DFO ने बताई ये वजह 

Published

on

Delhi Fire News Today: पूर्वी दिल्ली के गाजीपुर के कूड़े के पहाड़ में लगी भीषण (Ghazipur landfill site Fire) आग पर 13 घंटे बाद भी फायरकर्मी उसे काबू नहीं कर पाये हैं. एक दर्जन से ज्यादा दमकल की गाड़ियां मौके पर मौजूद है और फायरकमी आग (Fire) पर काबू पाने की जद्दोजहद में जुटे हैं. 

इस घटना के बारे में अग्निशमन विभाग SO Narash kumar ने बताया, ” 21 अप्रैल शाम 6 बजे गाजीपुर कूड़े के पहाड़ में आग लगने की सूचनी मिली थी. दमकल की कुल 10 से 12 गाड़ियां यहां मौजूद हैं. अभी कि कोई जनहानि नहीं हुई है. 

ये है भीषण आग की वजह

Delhi के Ghazipur लैंडफिल साइट पर आग लगने का सिलसिला जारी है. फायरकर्मी उसे काबू करने के प्रयास में जुटे हैं. दिल्ली फायर सर्विस विभाग के अधिकारी नरेश कुमार के मुताबिक लैंडफिल साइट में भीषण आग गैस निकलने की वजह से लगी. 

सांस लेने में लोगों को हो रही है दिक्कत

दिल्ली गाजीपुर लैंडफिल साइट इलाके में रहने वाले लोगो का कहना हैं की “आग की वजह से आसमान में धुएं के बादल छाए हुए हैं. मुझे सांस लेने में दिक्कत हो रही है. आग पर काबू पाने में प्रशासन लापरवाही बरत रहा है. धुएं का बुजुर्गों के स्वास्थ्य पर गंभीर असर होगा.”

author avatar
Editor Two
Continue Reading

Delhi

Greater Noida में टीचर ने चौथी कक्षा के छात्र की बड़े ही बेरहमी से की पिटाई, CCTV फुटेज आई सामने

Published

on

Greater Noida से दिल दहला देने वाला वीडियो सामने आया है | जहां एक चौथी कलास में पढ़ रहे छात्र की एक शिक्षक ने बड़े ही बेरहमी से पिटाई की | शिक्षक ने छात्र का सर अपनी जांघों के बीच दबाकर बड़े ही बेहरहमी से पीटा | इस छात्र की बस इतनी गलती थी की उसके बाल बड़े थे | उसके बालों को देखकर Teacher आग बबूला हो गया और डंडे से बुरी तरह से छात्र को पीटा | ये घटना Greater Noida के खीरी में स्थित एमसी गोपीचंद इंटर कॉलेज का है |

बतादें की जब छात्र ने घर पहुंचकर सारी घटना के बारे में बताया, तो परिवार वालो का कलिज़ा फट गया | इस मामले में छात्र के परिवार वालों ने सूरजपुर से शिकायत की थी | ये सारी घटना स्कूल में लगे CCTV में कैद हो गई और परिवार वालों ने वो फुटेज जिसमें छात्र को मारा जा रहा था पुलिस वालों को दिखाई |

इसमें देखा जा सकता है कि बच्चे की जांघों पर डंडे से पीटे जाने के निशान बने हुए हैं|इसकी तस्वीरें Socail Media पर वायरल होने पर कई लोगों ने @noidapolice @CP_Noida @Uppolice से मामले में कार्रवाई करने की शिकायत की| Socail Media प्लेटफॉर्म पर भी लोगों ने आरोपी शिक्षक के खिलाफ गुस्सा जाहिर किया |

घटना की जानकारी मिलते ही डीसीपी सेंट्रल नोएडा के एक्स हैंडल से पोस्ट किया गया कि उक्त संबंध में जांच कर आवश्यक कार्यवाही करने के लिए थाना प्रभारी सूरजपुर को निर्देशित किया गया है |

इसमें बताया गया कि थाना सूरजपुर द्वारा जांच के क्रम में अभिभावकों से वार्ता की गई, तो उन्होंने बताया कि हमारा समझौता हो गया है और अध्यापक ने माफ़ी भी मांग ली है |




author avatar
Editor Two
Continue Reading

Trending