Connect with us

Crime

शराबियों के हुडदंग से परेशान होकर 5 साल के बच्चे ने Highcourt से मांगी मदद

Published

on

शराबियों के हुडदंग से परेशान होकर 5 साल के बच्चे ने Highcourt से मांगी मदद

हम सभी को पता ही की स्कूल की शिक्षा का मंदिर कहा जाता है | अगर वही उसी मंदिर के पास अगर कुछ गलत काम हो रहा हो तो उसका बच्चों पर गलत असर पड़ना लाज़मी है | ऐसा ही एक मामला कानपूर से सामने आया है जहा स्कूल के बगल में शराब के ठेके के बाहर शराबियो ने हुड़दंग मचा रखा होता है | ऐसे में एलकेजी में पढ़ने वाले 5 साल के बच्चे ने परेशान होकर परिवार वालो की मदद से इलहाबाद के हाई कोर्ट में याचिका दाखिल की है |
बतादे की हाई कोर्ट ने पांच साल के बच्चे की शिकायत को न सिर्फ मंजूर कर लिया है, बल्कि यूपी सरकार से भी जवाब मांगा है|

बतादें ये मामला कानपूर नगर में चिड़ियाघर के पास स्थित आजाद नगर मोहल्ले से जुड़ा हुआ है. पांच साल के अर्थव दीक्षित आज़ाद नगर इलाके के रहने वाले है और वो एलकेजी का छात्र है | शारब का ठेका स्कूल से मेहज़ 20 मीटर की दुरी पर है | नियम के मुताबिक शारब के ठेके 10 बजे के बाद खुलना चाहिए। लेकिन कानून की उलांगना करते हुए यहाँ पर सुबह छह सात बजे से ही शराबियों का जमावड़ा लग जाता है | शराब पीकर लोग नशे में यहां हुड़दंग करते है |

हुड़दंग करते शराबियों से पांच साल का अर्थव न सिर्फ परेशान था बल्कि उसे रस्ते में जाते वक्त दर भी लगता था | अथर्व के कहने पर उसके परिवार वालों ने कानपुर के अफसरों से लेकर यूपी सरकार तक कई बार शिकायत की. लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई.इसमें आबकारी विभाग ने हमको पहले जवाब दिया था 30 साल से शराब का ठेका यहां खुला हुआ है. स्कूल अभी साल 2019 में खोला गया है. आबकारी विभाग का यह जवाब भी हमने बेटे की तरफ से हाई कोर्ट में लगाया है. इस मामले में हाई कोर्ट ने 13 मार्च को सुनवाई की तारीख दी है |

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Crime

Arrest Me: पुजारी की हत्या कर थाने पहुंचा साधु, बोला

Published

on

By

Arrest Me: पुजारी की हत्या कर थाने पहुंचा साधु, बोला

Agra News: उत्तर प्रदेश के आगरा जिले से हत्या का एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। जहां एक बुजुर्ग साधु ने पुजारी की हत्या कर दी। वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी साधु ने थाने जाकर सरेंडर कर दिया। आरोपी साधु ने पुलिस से कहा कि ‘कुल्हाड़ी और फावड़े से पुजारी को काट कर आया हूं, ज्यादा बोलता था।’ पुलिस तुरंत साधु को साथ लेकर घटनास्थल पर पहुंची। जहां पुजारी का शव पड़ा हुआ मिला। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया और मामले की जांच में जुट गई।

जानें क्या है पूरा मामला?
जानकारी के मुताबिक, बीते शुक्रवार की रात करीब साढ़े 9 बजे एक बुजुर्ग साधु राजदेव उर्फ शीतलादास बाबा न्यू आगरा थाने पर पहुंचा। उसने पुलिस को बताया कि मैंने मऊ के जंगल स्थित पथवारी मंदिर के पुजारी बंटी (35) की हत्या कर दी है। पुजारी बहुत बोलता था। इसलिए कुल्हाड़ी और फावड़े से उसे काट डाला। मंदिर परिसर में उसकी लाश पड़ी है। मुझे गिरफ्तार कर लो।’ जिस पर पुलिस ने आरोपी साधु को हिरासत में लिया। पुलिस उसे साथ लेकर घटनास्थल पर पहुंची। जहां पुजारी का लहूलुहान शव पड़ा हुआ मिला।

20 दिन पहले ही मंदिर आया था साधु
पुलिस ने घटना की सूचना आनंदी भैरो मंदिर के पुजारी धारा नाथ को दी। मौके पर पहुंचे धारा नाथ ने बताया बंटी उनके गुरुजी निर्वतीनाथ का शिष्य था। पिछले 5 साल से पथवारी मंदिर पर रहकर पूजा कर रहा था। बीच में अपने घर राया चला गया था और 2 महीने पहले ही वापस आया था। उन्होंने बताया कि करीब 20 दिन पहले ही साधु राजदेव मंदिर पर आकर रहने लगे थे। तभी से दोनों के बीच में मंदिर में रहने को लेकर विवाद चल रहा था।

क्या कहती है पुलिस?
इस मामले में जानकारी देते हुए ACP ताज सुरक्षा सैयद अरीब अहमद ने बताया कि साधु और पुजारी में मंदिर पर रहने को लेकर विवाद था। आरोपी साधु मंदिर में पुजारी बंटी के रहने का विरोध करते थे। शुक्रवार देर शाम को भी इसी बात को लेकर दोनों में तकरार हुई थी। शुक्रवार रात में आरोपी साधु ने शराब के नशे में पुजारी बंटी की हत्या कर दी। फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है।

Continue Reading

Punjab

Punjab में भाई ही भाई का बना जानी दुशमन, वजह जान आप भी हो जाएंगे हैरान

Published

on

Punjab में भाई ही भाई का बना जानी दुशमन, वजह जान आप भी हो जाएंगे हैरान

Barnala के गांव संधू कलां में नशेड़ी भाई द्वारा भाई की हत्या करने का मामला सामने आया है. आपको बता दें कि दोनों भाई एक ही घर में रहते थे, नशेड़ी भाई की शादी नहीं हुई थी और वह अक्सर अपने भाई और परिवार से झगड़ा करता रहता था.

बीती रात उसने घर में अपने भाई की स्क्रू से मारकर हत्या कर दी, जिससे बलवीर सिंह की मौके पर ही मौत हो गई। इस मामले की जानकारी देते हुए मृतक की पत्नी जसबीर कौर ने बताया कि पूरन सिंह की अभी शादी भी नहीं हुई थी और वह हमारे साथ घर पर ही रहता था. वह काफी समय से शराब पीने का आदी था और अक्सर शराब पीकर घर में हर बात पर झगड़ा करता था।

बीती रात भी पूरन सिंह ने नशे की हालत में अपने भाई बलवीर सिंह से मवेशियों को लेकर झगड़ा शुरू कर दिया और बात इतनी बढ़ गई कि उसने उस पर स्क्रू से हमला कर दिया. इसके कारण उनके पति की मृत्यु हो गयी. पीड़िता जसबीर कौर ने पुलिस प्रशासन से मांग की है कि उसके पति की बेरहमी से हत्या करने वाले पूरण सिंह को कड़ी कानूनी सजा दी जाए.

इस मामले की जानकारी देते हुए भदौड़ थाने के SHO शेरविंदर सिंह ने बताया कि घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस द्वारा मामले की जांच की जा रही है. जल्द ही आरोपी पुलिस की गिरफ्त में होंगे। उन्होंने बताया कि मृतक के शव को पोस्टमार्टम के लिए बरनाला के सरकारी अस्पताल में रखा गया है. उन्होंने बताया कि आरोपी नशे आदि के नशे में था, इसकी भी पुलिस जांच कर रही है.

Continue Reading

Crime

जेल में बंद गैंगस्टर Mukhtyar Ansari की तबीयत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती

Published

on

Mukhtar Ansari hospitalised

मऊ से कई बार विधायक रह चुके मुख्तार अंसारी को विभिन्न मामलों में सजा हो चुकी है और वर्तमान में वह बांदा जेल में बंद हैं

जेल में बंद गैंगस्टर से नेता बने मुख्तार अंसारी को पेट दर्द की शिकायत के बाद मंगलवार तड़के उत्तर प्रदेश के बांदा जिले के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया।

“बांदा मेडिकल कॉलेज द्वारा जारी एक मेडिकल बुलेटिन के अनुसार, मुख्तार की हालत स्थिर है” “मुख्तार अंसारी को पेट में दर्द की शिकायत के साथ सुबह 3.55 बजे भर्ती कराया गया था।”रोगी को भर्ती किया जाता है और रूढ़िवादी उपचार शुरू हो जाता है। मरीज की हालत फिलहाल स्थिर है।

इससे पहले उनके भाई और गाजीपुर के सांसद अफजल अंसारी ने कहा कि परिवार को मुख्तार के अस्पताल में भर्ती होने की सूचना दी गई थी।

उन्होंने कहा, “हमें गाजीपुर के मोहम्मदाबाद पुलिस स्टेशन से एक संदेश मिला है कि मुख्तार बीमार है और उसे मेडिकल कॉलेज, बांदा में भर्ती कराया जा रहा है। परिवार के सदस्यों को उसकी मदद के लिए आने के लिए कहा गया है।

अफजल अंसारी ने कहा कि उन्होंने बांदा जाने से पहले मुख्यमंत्री कार्यालय को फोन किया था, लेकिन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से संपर्क नहीं कर सके, जो गोरखपुर में हैं।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कार्यालय को फोन करने का उद्देश्य यह अनुरोध करना था कि अगर बांदा मेडिकल कॉलेज में पर्याप्त व्यवस्था नहीं की जाती है तो मुख्तार को लखनऊ के मेदांता अस्पताल या किसी अन्य बड़े अस्पताल में भर्ती कराया जाए।

उन्होंने कहा, “अगर सरकार इलाज का खर्च नहीं उठाती है, तो परिवार यह खर्च उठाएगा।

अफजल अंसारी ने दावा किया कि 21 मार्च को बाराबंकी की एक अदालत में एक मामले की वर्चुअल सुनवाई के दौरान, मुख्तार के वकील ने अदालत में एक आवेदन दायर किया था जिसमें आरोप लगाया गया था कि उनके मुवक्किल को जेल में “धीमा जहर” दिया गया था, जिसके कारण उनकी हालत बिगड़ रही थी।

बांदा मेडिकल कॉलेज का दौरा करने वाले मुख्तार के रिश्तेदार मंसूर अंसारी ने दावा किया कि उन्हें उनसे मिलने की अनुमति नहीं दी गई और उन्हें बांदा जेल अधीक्षक से अनुमति लेने के लिए कहा गया।

मुख्तार के वकील नसीम हैदर, जिन्होंने मुख्तार से मुलाकात की, ने कहा कि उनकी हालत को थोड़ा बेहतर कहा जा सकता है।

उन्होंने कहा, “उनकी अल्ट्रासाउंड और अन्य रिपोर्ट का इंतजार है। उनके पेट में दर्द है।

मऊ से कई बार विधायक रह चुके मुख्तार अंसारी को विभिन्न मामलों में सजा हो चुकी है और वर्तमान में वह बांदा जेल में बंद हैं।

Continue Reading

Trending