अयोध्या निमंत्रण पर बोले Akhilesh Yadav - ये भगवान श्री राम की तरफ से बुलावा नहीं, ये भारतीय जनता पार्टी का बुलावा है - Early News 24

अयोध्या निमंत्रण पर बोले Akhilesh Yadav – ये भगवान श्री राम की तरफ से बुलावा नहीं, ये भारतीय जनता पार्टी का बुलावा है

अयोध्या निमंत्रण पर बोले Akhilesh Yadav - ये भगवान श्री राम की तरफ से बुलावा नहीं, ये भारतीय जनता पार्टी का बुलावा है

समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ( Akhilesh Yadav ) ने उत्तर प्रदेश की योगी सरकार पर जमकर निशाना साधा है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी धर्म के पीछे छिप जाती है। अयोध्या जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि ये कार्यक्रम बीजेपी का है, अगर हमारी आप की इच्छा होगी भगवान को देखने को होगी तो कौन रोक पाएगा। उन्होंने कहा कि भाजपा ने कहा कि जिसके पास निमंत्रण है, वहीं अध्योध्या आएगा। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी कैसे तय कर सकती है कि किसे जाना है या किसी नहीं जाना है।

 उन्होंने रोजगारा के सवाल पर कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार को जो परिवर्तन लाना चाहिए शिक्षा व्यवस्था में वह नहीं ला पाई है। उन्होंने आज अच्छे शिक्षा की जरुरत है जिससे लोगों को रोजगार मिले। सपा प्रमुख शनिवार को जिले के बिसुकिया गांव में संवाददाताओं से बातचीत कर रहे थे। इंडियन नेशनल डेवलपमेंटल इनक्लूसिव अलायंस (‘इंडिया’ गठबंधन) में सीट बंटवारे सहित अन्य फैसलों को लेकर पूछे गये सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि ‘‘सपा अन्य दलों को साथ लेकर बहुत जल्द फैसला ले लेगी। सूर्य को उत्तरायण में आने दो। सूर्य के उत्तरायण में आते ही सभी फैसले हो जायेंगे।

गौरतलब है कि मकर संक्रांति (14 जनवरी) से सूर्य उत्तरायण होते हैं। उन्होंने जोर देकर कहा कि ”‘इंडिया’ गठबंधन में सपा पूरी जिम्मेदारी के साथ है। गठबंधन में किसको क्या जिम्मेदारी दी जाएगी, बहुत जल्द जानकारी दे दी जाएगी।” यादव ने दावा किया, ‘‘एक बात तो साफ है कि उत्तर प्रदेश ही नहीं, देश की जनता भाजपा(भारतीय जनता पार्टी) को हटाना चाहती है।” उन्होंने सत्तारूढ़ भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा, ‘‘प्रधानों के बजट का पैसा काटकर विकसित भारत का सपना पूरा नहीं कर सकते हैं।” राम मंदिर को लेकर चुनावी लाभ उठाने की चर्चा पर उन्होंने कहा, ‘‘धर्म, राजनीति का हिस्सा नहीं हो सकता। भाजपा को (किसानों की) आय दोगुनी हुई कि नहीं, युवाओं को रोजगार मिला कि नहीं, इन सवालों का जवाब देना पड़ेगा।

सपा प्रमुख ने कहा, ‘‘चूंकि भाजपा के पास इन सवालों का जवाब नहीं है, इसलिए वह धर्म के पीछे छिप जाती है।” राम मंदिर में रामलला के प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शामिल होने को लेकर पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘‘भाजपा के लोग कह रहे हैं कि जिसके पास निमंत्रण पत्र होगा, वही जायेगा। हमारा पक्ष ये है कि भगवान जब बुलाएंगे तो भाजपा भी नहीं रोक पाएगी।” उन्होंने कहा, ‘‘हमारा मन करे देखने (दर्शन करने) को तो क्या हमें कोई रोक पायेगा। भाजपा कैसे तय कर सकती है कि किसको बुलाना है और किसको नहीं बुलाना है। इसका मतलब भगवान श्री राम की तरफ से नहीं बुलावा है, यह भाजपा की तरफ से बुलावा है।

प्रधानमंत्री पद की दावेदारी के सवाल के जवाब में यादव ने कहा कि ‘‘कभी कभी कम (सीटों) वाले भी प्रधानमंत्री बनते हैं। पर, हमारे लिए मुख्य यह है कि भाजपा हारे।” उन्होंने कहा, ‘‘सवाल यह नहीं है कि कौन किस पद पर बैठेगा। आप बलिया के हैं, यहां के (चंद्रशेखर) प्रधानमंत्री रहे हैं। आप इन बातों को समझते हो और परिस्थितियों को भी सब समझते हो। कभी कभी कम वाले भी प्रधानमंत्री बनते हैं।” चंद्रशेखर 1990 में अपनी पार्टी के कम सांसदों के बावजूद कांग्रेस के समर्थन से प्रधानमंत्री बने थे। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *