एन.आई.टी. जालंधर ने मनाया 75वां गणतंत्र दिवस - Early News 24

एन.आई.टी. जालंधर ने मनाया 75वां गणतंत्र दिवस

एन.आई.टी. जालंधर ने मनाया 75वां गणतंत्र दिवस

डा. बी.आर. अंबेडकर एनआईटी जालंधर ने 26 जनवरी 2024 को संस्थान में बड़े उत्साह के साथ 75 वां गणतंत्र दिवस मनाया। कार्यक्रम की शुरुआत संस्थान के अध्यक्ष और निदेशक, प्रो. बी. के. कनौजिया द्वारा राष्ट्रीय ध्वज का परिचय करने से हुई। जिसके बाद राष्ट्रगान और प्रशासनिक भवन के पास एक परेड हुई। बैलून्स का विमोचन ने उत्साह को और बढ़ाया। कार्यक्रम में प्रोफेसर अजय बंसल, रजिस्ट्रार, प्रोफेसर अनीश सचदेवा, डीन छात्र कल्याण, डॉ. एस बजपाई, मुख्य वार्डन, डॉ. ए. के. चौधरी, डॉ. ममता खोसला, डॉ. रोहित मेहरा, डॉ. आर.के. गर्ग, डॉ. इंडु सैनी, डॉ. सोनिया चावला और संस्थान के अन्य सदस्य शामिल हुए।

गणतंत्र दिवस के उत्सव में एक सुरक्षा इकाई और एनसीसी इकाई के एक प्लेटून की शामिल होने वाली एक परेड शामिल थी। इसके बाद संस्थान के केंद्रीय सेमिनार हॉल में एक सांस्कृतिक कार्यक्रम हुआ। संस्थान के रजिस्ट्रार, प्रोफेसर अजय बंसल ने स्वागत के साथ शुरू किया और सभी को 75वें गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं दीं। उन्होंने अपने भाषण में इस दिन के महत्व पर जोर दिया और बताया कि यह वह समय है जब भारत ने अपने संविधान के प्रमुख के माध्यम से गणराज्य बना। उन्होंने संस्थान और इस दिन के बीच विशेष संबंध बताया, क्योंकि एनआईटी जालंधर का नाम डॉ. बी. आर. अंबेडकर संविधान के पिता के नाम पर रखा गया है। संस्थान के निदेसक प्रो. बी.के. कर्मचारियों और छात्रों को बधाई दी। कन्नौजिया ने सब को संबोधित किया और उन्होंने अपने संबोधन में राष्ट्र की स्वतंत्रता के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले स्वतंत्रता सेनानियों को श्रद्दांजलि अर्पित किया। जिन्होंने राष्ट्र की स्वतंत्रता और हमारे संवधान के 26 जनवरी, 1950 को अपनाए जाने में क्रियात्मक भूमिका निभाई।

उन्होंने यह भी जोर दिया कि गणतंत्र दिवस का महत्व हमारे संविधान की स्मृति के न केवल हमारे लिए है, बल्कि हमारे प्रगति और नवाचार के प्रति हमारी परामर्श भी है। प्रौद्योगिकी शिक्षा में तकनीक का बड़ा योगदान है,
और इसलिए शिक्षा संविधान को इसे समाज के वंचित वर्गां तक पहुंचाने के लिए उपयोग करना चाहिए। उन्होंने पिछले वर्ष संस्थान की उपलब्धियों को और नित जालंधर के भविष्य के विकास की रूप रेखा बताई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *