यात्रियों के रनवे के पास खाना खाने के मामले में BCAS की कार्रवाई, इंडिगो पर लगा भारी जुर्माना - Early News 24

यात्रियों के रनवे के पास खाना खाने के मामले में BCAS की कार्रवाई, इंडिगो पर लगा भारी जुर्माना

यात्रियों के रनवे के पास खाना खाने के मामले में BCAS की कार्रवाई, इंडिगो पर लगा भारी जुर्माना

फ्लाइट में देरी के बाद कुछ यात्रियों के मुंबई एयरपोर्ट के पास बैठकर खाने का मामला सामने आया. इसको लेकर सख्त कार्रवाई की गई है. इंडिगो को 1.20 करोड़ और मुंबई एयरपोर्ट को 90 लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया। यह जुर्माना डीजीसीए और ब्यूरो ऑफ सिविल एविएशन सिक्योरिटी (बीसीएएस) ने लगाया है। बीसीएएस ने इंडिगो को 1.2 करोड़ रुपये और मुंबई एयरपोर्ट को 60 लाख रुपये देने को कहा है। डीजीसीए ने मुंबई एयरपोर्ट पर 30 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है. इस प्रकार मुंबई एयरपोर्ट दोनों निकायों को कुल 90 लाख रुपये देगा।

इंडिगो पर लगा 1.2 करोड़ रुपये का जुर्माना

आपको बता दें कि हाल ही में सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें मुंबई एयरपोर्ट पर इंडिगो फ्लाइट के बाहर रनवे के पास कुछ यात्री जमीन पर बैठकर खाना खा रहे थे. आरोप था कि कोहरे के कारण फ्लाइट में देरी हुई और बाद में यात्रियों को जमीन पर बैठाकर खाना खिलाया गया. बाद में इंडिगो ने इस मामले पर माफी भी मांगी. इंडिगो ने कहा था कि दरअसल यात्री फ्लाइट से दूर नहीं जाना चाहते थे, जिसके चलते उन्हें वहीं खाना परोसा गया. जिसके चलते पहले इंडिगो को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया था. इंडिगो ने अपने जवाब में कहा कि एयरलाइन को इसकी जानकारी थी, लेकिन उसने कोई उचित कार्रवाई नहीं की। वहीं, डीजीसीए ने माना कि मुंबई एयरपोर्ट रनवे के आसपास अनुशासन बनाए रखने में विफल रहा. माना गया कि एयरपोर्ट ने यात्रियों की सुरक्षा के प्रति उचित रवैया नहीं अपनाया.

इसके अलावा डीजीसीए ने स्पिकजेट और एयर इंडिया पर भी जुर्माना लगाया है. दोनों को 30-30 लाख रुपये देने को कहा गया है. दिल्ली में कोहरे के कारण उनकी उड़ानों में देरी हुई। वे कोहरे के लिए तैयार नहीं थे, जिसके चलते डीजीसीए ने उन पर जुर्माना लगाया है. इन एयरलाइनों पर कोहरे के दिनों में कैट III पायलटों को ड्यूटी पर तैनात नहीं करने का आरोप लगाया गया है, जिन्हें कम रोशनी की स्थिति में उड़ान भरने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *