कर्नाटक विधान सभा शिष्टमंडल द्वारा संधवां के साथ मुलाकात - Early News 24

कर्नाटक विधान सभा शिष्टमंडल द्वारा संधवां के साथ मुलाकात

कर्नाटक विधान सभा शिष्टमंडल द्वारा संधवां के साथ मुलाकात

चंडीगढ़ :  पंजाब विधान सभा में पहली बार लागू किये नेशनल ई-विधान एप्लीकेशन प्रोजैक्ट सम्बन्धी जानकारी हासिल करने के लिए पंजाब के दौरे पर आए कर्नाटक विधान सभा स्पीकर के नेतृत्व वाले शिष्टमंडल ने आज पंजाब विधान सभा स्पीकर स. कुलतार सिंह संधवां के साथ मुलाकात की। 

इस शिष्टमंडल में कर्नाटक विधान सभा स्पीकर यू. टी. खादेर फ़रीद, सचिव कर्नाटक विधान परिषद के. आर. महालक्ष्मी, सचिव कर्नाटक विधान सभा एम. के. विशालकशी के इलावा कर्नाटक स्पीकर के निजी सचिव महेश कारजगी, सलाहकार ओम प्रकाशा, कर्नाटक विधान परिषद की अतिरिक्त सचिव एस. निर्मला, डायरैक्टर (आई. टी.)  जे. ई. शशीधर, ओ. एस. डी. टू चेयरमैन विधान परिषद के. डी. शीला और चीफ़ एडीटर ऑफ डिबेटस एम. शशिकांत शामिल हैं। 

पंजाब विधान सभा सचिवालय में हुई मीटिंग के मौके पर अपने विचार पेश करते हुये स्पीकर  संधवां ने बताया कि पंजाब विधान सभा के समूचे कामकाज को कागज़ रहित कर दिया गया है और विधान सभा सत्रों का समूचा कामकाज पूर्ण तौर पर डिजिटल और पेपरलैस तरीके से हो रहा है। उन्होंने बताया कि दो दिवसीय नेशनल ई-विधान एप्लीकेशन ( नेवा) कान्फ़्रेंस-कम-वर्कशाप करवा के समूह विधायकों और प्रशासनिक सचिवों को नयी प्रणाली के अंतर्गत कामकाज करने का प्रशिक्षण दिया गया था। उन्होंने बताया कि पंजाब विधान सभा के कामकाज को हाई-टेक बनाने और आधुनिक प्रौद्यौगिकी के साथ जोड़ने के लिए डिजिटल विंग स्थापित किया गया है। डिजिटल विंग में आई. टी. सैल, एन. आई. सी. सैल, हाई टेक ट्रेनिंग रूम (नेवा सेवा केंद्र), हाई-टेक कंट्रोल रूम, नैटवर्क कंट्रोल रूम शामिल हैं। 

स्पीकर ने बताया कि कि नेवा एप के प्रयोग से जहाँ सदन की कार्यवाही की लाइव वैबकास्टिंग के द्वारा लोगों की भागीदारी बढ़ी है, वहीं पंजाब विधान सभा के सचिवालय का कामकाज और भी आसान हुआ है। उन्होंने बताया कि सदन में पेपर भी इलेक्ट्रानिक विधि के द्वारा पेश किये जा रहे हैं और विधान सभा सदस्यों और स्टाफ को कागज़ रहित सहूलतें मिल रही हैं। 

कर्नाटक विधान सभा स्पीकर यू. टी. खादेर फ़रीद ने इस मौके पर कहा कि नेशनल ई विधान एप्लीकेशन एक समर्थ प्रणाली है, जिससे पंजाब विधान सभा की समूची कार्यप्रणाली संतोषजनक ढंग से चलती है। उन्होंने कहा कि हम पंजाब की तर्ज़ पर कर्नाटक विधान सभा में एक ऐसी व्यवस्था लागू करने के बारे सोच रहे हैं, जो हमारी ज़रूरतों और कार्यप्रणाली के अनुसार काम करे। उन्होंने कहा कि हमें पंजाब विधान सभा से अहम जानकारी प्राप्त हुई है जो हमारे लिए बेहद सहयोगी सिद्ध होगी। इस मौके पर शिष्टमंडल ने सदन का दौरा भी किया और व्यवहारिक तौर पर सदन में लगाऐ गए आई पैड चला कर देखे और नेवा एप की कार्य प्रणाली के बारे जाना। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *