ऑटो तथा कैब के ऊपर चस्पा किए गए यूनिक आईडी नंबर की मुहिम के आने लगे सकारात्मक परिणाम - Early News 24

ऑटो तथा कैब के ऊपर चस्पा किए गए यूनिक आईडी नंबर की मुहिम के आने लगे सकारात्मक परिणाम

ऑटो तथा कैब के ऊपर चस्पा किए गए यूनिक आईडी नंबर की मुहिम के आने लगे सकारात्मक परिणाम

 चंडीगढ़ : हरियाणा पुलिस द्वारा सभी ऑटो रिक्शा तथा कैब के ऊपर चस्पा किए गए यूनिक आईडी नंबर लगाने की मुहिम के सकारात्मक परिणाम सामने आने लगे हैं और लोग हरियाणा पुलिस का आभार व्यक्त करते नजर आ रहे हैं। पंचकूला में इसका ताजा उदाहरण हाल ही में देखने को मिला। 

हुआ यू कि 8 दिसंबर को शाम करीब 4:30 बजे एक महिला ने अपने मोबाईल नम्बर से (महिला का नम्बर सार्वजनिक नही किया जा सकता) थाना सैक्टर-20 पंचकुला में सूचना दी कि उसके द्वारा 2 दिन पहले एक ऑटो में सफर किया था और उस ऑटो मे वह अपना बैग भुल गई जिसमें उसके बहुत जरूरी कागजात तथा रुपए थे । वह 2 दिन से उस ऑटो की तलाश कर रही है परन्तु कोई मदद नही मिल पा रही है । उसको ऑटो का नम्बर याद नही था लेकिन उसने ऑटो में एक स्टीकर लगा देखा था जिस पर 1003 नम्बर लिखा हुआ था जिस पर थाना सैक्टर-20 पंचकुला मे तैनात हेड कांस्टेबल कर्म सिंह ने इस बारे में एसीपी ट्रैफिक कार्यालय में सम्पर्क किया और उपरोक्त घटना के बारे में बताया।  ऑटो पर लगे स्टीकर नम्बर 1003 को सिस्टम में चैक करने पर पता लगा कि स्टीकर नंबर-1003 ऑटो नम्बर HR68B-4266 को जारी था और ऑटो के विस्तृत विवरण में से चालक का मोबाइल नंबर एमएचसी थाना सेक्टर -20 को नोट करवाया गया जिस पर एमएचसी थाना ने  एसीपी कार्यालय ट्रैफिक द्वारा बताये गये उस ऑटो चालक के मोबाइल नंबर पर बात की जिससे उस महिला को उसका भुला हुआ बैग सही सलामत प्राप्त हो गया । इस पर महिला ने पुलिस और ऑटो चालक दोनो का धन्यवाद किया । 

 महिला से स्टीकर नम्बर नोट करने के बारे में पूछने पर महिला ने बताया कि उसने सुना था कि पुलिस ऑटो के उपर यूनिक नम्बर के स्टिकर लगा रही है । वह जब ऑटो मे बैठी तो उसे वह स्टीकर ऑटो में लगा हुआ दिखाई दिया और उसे वह स्टीकर नम्बर याद रह गया जिसकी मदद से उसे उसका बैग प्राप्त हो गया । 

पंचकूला के पुलिस आयुक्त सिबास कविराज ने कहा कि पुलिस महानिदेशक शत्रुजीत कपूर के मार्गदर्शन में यह नई पहल शुरू की गई है । जब भी कोई सवारी ऑटो मे बैठती है तो उसकी नजर उस स्टीकर पर पडती है जिससे ज्यादातर लोगों को वह नम्बर याद रह जाता है । उन्होंने कहा कि हरियाणा पुलिस आमजन से यह अपील करती है कि किसी भी ऑटो अथवा कैब में बैठकर उसे यूनिक नंबर को याद करें अथवा उसकी फोटो खींच ले । उन्होंने कहा कि लोग हरियाणा पुलिस इस मुहिम से जुड़ते हुए न केवल खुद जागरूक बने बल्कि अन्य लोगों को भी प्रेरित करें । उन्होंने कहा कि गाड़ी नंबर याद रखना अपेक्षाकृत कठिन है लेकिन यूनिक नंबर को आसानी से याद किया जा सकता है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *