Connect with us

Delhi

कश्मीर के मुद्दे पर लोकसभा में पूरे दिन चर्चा हो जाए, दूध का दूध-पानी का पानी हो जाएगा: अधीर रंजन

Published

on

कश्मीर के मुद्दे पर लोकसभा में पूरे दिन चर्चा हो जाए, दूध का दूध-पानी का पानी हो जाएगा: अधीर रंजन

नेशनल डेस्क: लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने बुधवार को आरोप लगाया कि केंद्र सरकार के मंत्री और भाजपा के कई नेता कश्मीर की बात आने पर प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू की अनावश्यक आलोचना करने लगते हैं और इस मुद्दे पर सदन में एक बार पूरे दिन चर्चा करा ली जाए तो ‘दूध का दूध और पानी का पानी’ हो जाएगा। सदन में ‘जम्मू कश्मीर आरक्षण (संशोधन) विधेयक, 2023′ और ‘जम्मू कश्मीर पुनर्गठन (संशोधन) विधेयक, 2023′ पर चर्चा में भाग लेते हुए चौधरी ने यह बात कही, जिस पर गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि ‘‘हम ऐसी चर्चा के लिए तैयार हैं”।

चौधरी ने कहा कि आश्चर्य की बात है कि जब भी कश्मीर की बात आती है तो सरकार के मंत्री और भाजपा के अनेक नेता हर बात में नेहरूजी की आलोचना करते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने एक बार ‘कश्मीरियत, जम्हूरियत और इंसानियत’ का नारा दिया था। इस पर भाजपा सांसद निशिकांत दुबे ने व्यवस्था का प्रश्न उठाते हुए कहा कि ‘कश्मीरियत’ का नारा शेख अब्दुल्ला ने दिया था और वाजपेयी ने नहीं दिया। कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने दावा किया कि 2003 में अटल बिहारी वाजपेयी ने ‘कश्मीरियत’ की बात कही थी।

दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा
उन्होंने कहा कि गृह मंत्री अमित शाह ने इसी सदन में कहा था कि कश्मीर में उचित समय पर विधानसभा चुनाव कराये जाएंगे। चौधरी ने कहा कि सरकार ने वहां स्थानीय चुनाव तो करा दिए लेकिन विधानसभा चुनाव नहीं कराए। कांग्रेस नेता ने कहा कि सरकार ने कश्मीर में अमन-चैन लाने का वादा किया था, जिसे वह निभाना भूल गई है। उन्होंने कहा, ‘‘आपने आग तो लगा दी लेकिन बुझाना भूल गए।” चौधरी ने कहा कि भाजपा नेताओं के अनुसार ‘‘नेहरू देश के लिए हानिकारक हैं और आप (सरकार) देश के लिए कल्याणकारी हैं। तो इस विषय पर दिनभर चर्चा करा ली जाए। दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा।”

‘चौधरी स्वयं कह रहे नेहरू हानिकारक थे’
कांग्रेस नेता चौधरी ने कश्मीर की स्थिति को लेकर सरकार को आत्मावलोकन करने की सलाह दी और आरोप लगाया कि सरकार चुनाव जीतने के लिए नए-नए तरीके अपनाती रहती है। इस पर शाह ने कहा, ‘‘मैंने कभी ऐसा नहीं कहा कि नेहरू देश के लिए हानिकारक हैं। सत्तापक्ष से किसी सदस्य ने कभी यह बात नहीं की। मैंने कहा है कि कश्मीर की समस्या के मूल पर चर्चा होनी चाहिए। उसकी जड़ में कौन था।” उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नेता चौधरी स्वयं कह रहे हैं कि ‘‘नेहरू हानिकारक थे तो इसमें हम क्या कर सकते हैं।”

कश्मीर को आपने खाप पंचायत बना दिया
उन्होंने पुलवामा में आतंकवादी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवानों के शहीद होने के संदर्भ में जम्मू कश्मीर के एक पूर्व उप राज्यपाल के इस दावे का उल्लेख किया कि इस घटना से बचा जा सकता था। चौधरी ने कहा कि वह सरकार द्वारा मनोनीत उप राज्यपाल थे, ‘‘आप उन्हें नकार नहीं सकते।” उन्होंने कहा कि कश्मीरी पंडितों का पलायन और घाटी में लक्षित हत्याएं अब भी हो रही हैं, लेकिन सरकार यह मानने को तैयार नहीं है। चौधरी ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा, ‘‘कश्मीर को आपने खाप पंचायत बना दिया है। एक उप राज्यपाल और कुछ अधिकारी उसे (केंद्र शासित प्रदेश को) अपनी मर्जी से चला रहे हैं। वहां छह साल से चुनाव नहीं हुए हैं।”

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi

PM Narinder Modi top 7 gamers से मिले, Gamer से पूछा गुजरात में ये बीमारी कैसे पहुंची

Published

on

PM Narinder Modi mee top 7 gamers

हाल में PM Narendra Modi देश के पहले Digital content creators अवार्ड में कई सारे creators से मिलने और उन्हें सम्मानित किया | PM मोदी माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक Bill Gates से दिलचस्प मुलाकात के बाद पीएम मोदी ने देश के 7 ऑनलाइन गेमर्स से मुलाकात की. इस दौरान उन्होंने दिलचस्प बातें कहीं|

एक गेमर गुजरात के भुज का रहने वाला है। PM Modi ने हल्के-फुल्के अंदाज में पूछा, गुजरात कैसे पहुंची यह बीमारी? उनके सवाल पर सभी युवा ऑनलाइन गेमर्स मुस्कुरा दिए। पीएम मोदी ने उनसे सस्ते इंटरनेट की उपलब्धता के बारे में भी पूछा. इस बीच Pm Modi ने एक Online Game भी खेला. साथ ही गेमिंग और जुए के बीच का अंतर भी समझाया।

दरअसल, PM Narinder Modi से मुलाकात करने वाले युवाओं में से एक युवक गुजरात के भुज का रहने वाला था. जैसे ही PM Modi को पता चला कि वह भुज से हैं तो उन्होंने हल्के लहजे में पूछा- भुज में यह बीमारी (ऑनलाइन गेम) कहां से आई? इस पर युवा गेमर ने पीएम को बताया कि यह पूरे देश में फैला हुआ है. इससे पहले PM Modi ने सभी ऑनलाइन गेमर्स का परिचय और Online Gaming में उनकी रुचि के बारे में भी जानना चाहा|

PM Modi के सवाल, Gamers के जवाब

Online gamers से मुलाकात के दौरान PM Modi ने पूछा कि क्या आपने स्कूल-कॉलेज से इसके बारे में सीखा? इस पर ऑनलाइन गेमर नमन माथुर ने कहा कि उन्होंने इसके बारे में यूट्यूब से सीखा और कॉलेज में सभी को इसके बारे में बताया. इसके साथ ही पायल ने बताया कि जब उन्होंने ऑनलाइन गेमिंग शुरू की तो उन्हें देखकर बाकी लड़कियों ने भी ऑनलाइन गेम खेलना शुरू कर दिया.

माता-पिता के बारे में सवाल
PM Modi ने पूछा कि जब माता-पिता कहते हैं कि यह हमारे बच्चों को बिगाड़ रहा है तो आप लोगों को कैसा लगता है? इस पर युवा गेमर्स ने कहा कि वे सभी को इसके बारे में जागरूक करना चाहते हैं. साथ ही, Online Gaming ने कहा कि गेमिंग के लिए मानसिक कौशल की आवश्यकता होती है। इस मौके पर पीएम मोदी ने पर्यावरण जैसे मुद्दों पर भी बात की. साथ ही गेमिंग और जुए के बीच का अंतर भी समझाया।

Continue Reading

Delhi

दिल्ली के मंत्री के इस्तीफे के बाद AAP ने कहा-BJP हमारे मंत्रियों और विधायकों को तोड़ने के लिए ED, CBI का इस्तेमाल कर रही है

Published

on

By

AAP Rajya Sabha MP Sanjay Singh.

Sanjay Singh ने कहा कि पहले BJP आनंद को भ्रष्ट कहती थी ‘जब प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा उनके खिलाफ छापेमारी की गई थी, लेकिन अब पार्टी माला पहनकर उनका स्वागत करेगी।

आम आदमी पार्टी (AAP) ने बुधवार को दावा किया कि दिल्ली के मंत्री राज कुमार आनंद के इस्तीफे से उसके इस रुख की पुष्टि हुई है कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी का उद्देश्य पार्टी को खत्म करना था।

आप के राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए आरोप लगाया कि भाजपा हमारे मंत्रियों और विधायकों को तोड़ने के लिए ईडी और सीबीआई का इस्तेमाल कर रही है।

उन्होंने कहा, “यह आप के मंत्रियों और विधायकों की अग्निपरीक्षा है।
समाज कल्याण सहित विभिन्न विभागों को संभाल रहे आनंद ने दिल्ली मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया और आप से यह आरोप लगाते हुए इस्तीफा दे दिया कि पार्टी में दलितों को प्रतिनिधित्व नहीं दिया गया।

सिंह ने जोर देकर कहा कि हालांकि इस्तीफे से पार्टी के कुछ कार्यकर्ता हतोत्साहित हो सकते हैं, लेकिन आम आदमी पार्टी संगठन को तोड़ने के प्रयासों के खिलाफ काफी हद तक मजबूती से खड़ी रहेगी।

दिल्ली के मंत्री सौरभ भारद्वाज ने दावा किया

आनंद को आप छोड़ने की धमकी दी गई होगी।उन्होंने कहा, “हमने बार-बार कहा कि अरविंद केजरीवाल को गिरफ्तार करने के पीछे दिल्ली और पंजाब की पार्टी और सरकारों को तोड़ने का इरादा था। हमारे कई सहयोगियों को लगेगा कि हम राज कुमार (आनंद) से नफरत करते हैं और उन्हें बेईमान और धोखेबाज कहेंगे। हम ऐसी कोई बात नहीं कहेंगे…।

उन्होंने कहा, “हर कोई संजय सिंह नहीं है। मेरा मानना है कि वह डर गया था “, भारद्वाज ने कहा।
सिंह ने कहा कि पहले भाजपा आनंद को भ्रष्ट कहती थी “जब प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा उनके खिलाफ छापेमारी की गई थी, लेकिन अब पार्टी माला पहनकर उनका स्वागत करेगी।

अपने इस्तीफे की घोषणा करते हुए आनंद ने कहा, “यह पार्टी (आप) दलित विधायकों, पार्षदों और मंत्रियों का सम्मान नहीं करती है। ऐसी परिस्थितियों में सभी दलित ठगा हुआ महसूस करते हैं। हम एक समावेशी समाज में रहते हैं, लेकिन अनुपात की बात करना गलत नहीं है। इन सब बातों के साथ पार्टी में बने रहना मेरे लिए मुश्किल है। उन्होंने केजरीवाल पर भी निशाना साधा, जो आबकारी नीति से जुड़े धन शोधन मामले में न्यायिक हिरासत में भेजे जाने के बाद तिहाड़ जेल में हैं और दिल्ली उच्च न्यायालय से कोई राहत पाने में विफल रहे हैं।


उन्होंने कहा, “कल तक, हम इस धारणा में थे कि हमें फंसाया जा रहा है, लेकिन उच्च न्यायालय के फैसले के बाद, ऐसा लगता है कि हमारी ओर से कुछ गड़बड़ है।

उन्होंने कहा, “जंतर मंतर से अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि राजनीति बदलने के बाद देश बदल जाएगा। पटेल नगर निर्वाचन क्षेत्र के विधायक आनंद ने कहा कि राजनीति नहीं बदली है, लेकिन राजनेता बदल गए हैं।

इस कहानी को Early News24 द्वारा संपादित नहीं किया गया है और इसे एक सिंडिकेटेड फ़ीड से प्रकाशित किया गया है।

Continue Reading

Delhi

Delhi CM Kejriwal को High Court से झटका, Arrest को चुनौती देने वाली Petition खारिज

Published

on

High Court on Kejriwal Petition

AAP के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली के CM Arvind Kejriwal केजरीवाल की ग्रिफ्तारी को अवैध बताने को लेकर High Court ने याचिका की खारिजकथित शराब घोटाले से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में तिहाड़ जेल में हैं। हाल ही में केजरीवाल ने दिल्ली हाई कोर्ट में गिरफ्तारी और हिरासत को चुनौती देते हुए याचिका दायर की थी |

केजरीवाल को हाई कोर्ट से झटका लगा है. दिल्ली High Court ने उन्हें राहत देने से इनकार कर दिया है. कोर्ट ने कहा कि दस्तावेज के मुताबिक केजरीवाल साजिश में शामिल हैं. गवाहों पर संदेह करना अदालत पर संदेह करने के समान है।

From High Court

कोर्ट ने साफ किया कि ये याचिका जमानत के लिए नहीं है. कोर्ट को सिर्फ यह तय करना है कि गिरफ्तारी गलत है या नहीं| ईडी ने जो तथ्य रखे हैं, उसके मद्देनजर केजरीवाल इस घोटाले की साजिश में शामिल हैं |

ED के मुताबिक, अरविंद केजरीवाल पार्टी के संयोजक हैं. ED का आरोप है कि रिश्वत का इस्तेमाल गोवा में प्रचार के लिए किया गया. जिरह के दौरान केजरीवाल पक्ष की ओर से गवाहों के बयानों की विश्वसनीयता पर सवाल उठाए गए हैं|

Kejriwal ने गिरफ्तारी के समय पर उठाए सवाल

बहस के दौरान आप के राष्ट्रीय संयोजक ने अपनी गिरफ्तारी की टाइमिंग पर सवाल उठाया था। Kejriwal ने कोर्ट में दावा किया था कि बीजेपी उन्हें जेल में डालकर चुनाव को फिक्सड मैच की तरह खेलना चाहती है। दूसरी ओर, ED ने AAP नेता के आरोपों पर कड़ी आपत्ति जताई है। ईडी ने दावा किया कि कथित अपराध में केजरीवाल व्यक्तिगत और परोक्ष रूप से शामिल हैं।

ASG SV Raju ने उदाहरण देते हुए कहा कि मान लीजिए कोई राजनीतिक व्यक्ति चुनाव से दो दिन पहले हत्या कर देता है। क्या उसे गिरफ्तार नहीं किया जाएगा? जस्टिस स्वर्ण कांता शर्मा ने 3 अप्रैल को दोनों पक्षों को सुनने के बाद अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। ईडी ने उन्हें 21 मार्च को गिरफ्तार किया था।

Continue Reading

Trending